Saturday, July 13, 2024
Advertisement

चीन पर दिए बयान को लेकर मणिशंकर अय्यर ने मांगी माफी, कांग्रेस ने झाड़ा पल्ला

मणिशंकर अय्यर के चीन वाले बयान से कांग्रेस पार्टी ने खुद को किनारा कर लिया है। अय्यर ने चीन का जिक्र करते हुए 1962 में हुए हमले के लिए 'कथित' शब्द का इस्तेमाल किया था।

Edited By: Malaika Imam @MalaikaImam1
Published on: May 29, 2024 12:21 IST
मणिशंकर अय्यर - India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO मणिशंकर अय्यर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर अपने बयानों को लेकर अक्सर विवादों में रहते हैं। एक बार फिर उन्होंने कुछ ऐसा बोला, जिस पर हंगामा मच गया। इस बार उन्होंने चीन का जिक्र करते हुए 1962 में हुए हमले के लिए 'कथित' शब्द का इस्तेमाल किया। इसका मतलब कि चीन ने हमला नहीं किया, बल्कि ऐसा आरोप लगाया जाता है। मणिशंकर अय्यर के इस बयान से कांग्रेस पार्टी ने खुद को अलग कर लिया है। 

दरअसल, लोकसभा चुनाव के लिए आखिरी दौर का मतदान 1 जून को होना है। मतदान के इस आखिरी दौर से पहले एक बार फिर मणिशंकर अय्यर के विवादित बयान की एंट्री हुई। मणिशंकर अय्यर ने दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि 1962 में चीनियों ने 'कथित' तौर पर भारत पर आक्रमण किया था। कांग्रेस ने जहां इस बयान से खुद को अलग कर लिया, वहीं इस बयान के तूल पकड़ने के बाद मणिशंकर अय्यर ने भी 'कथित आक्रमण' वाले अपने बयान को लेकर माफी मांगी है।

बढ़ती उम्र का दिया हवाला  

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने इस मसले पर कहा कि मणिशंकर अय्यर ने बाद में गलती से 'कथित आक्रमण' शब्द का उपयोग करने के लिए बिना शर्त माफी मांगी है। जयराम रमेश ने इस दौरान मणिशंकर अय्यर की बढ़ती उम्र का भी हवाला दिया। जयराम रमेश का कहना है कि कांग्रेस ने खुद को मणिशंकर अय्यर के इस बयान व उनकी मूल शब्दावली से दूर कर लिया है। जयराम रमेश ने कहा कि 20 अक्टूबर 1962 को भारत पर शुरू हुआ चीनी आक्रमण वास्तविक था।

चीन पर क्या बोले जयराम रमेश?

हालांकि, उन्होंने इसके साथ यह भी कहा कि मई 2020 की शुरुआत में लद्दाख में चीनी घुसपैठ हुई, जिसमें हमारे 20 सैनिक शहीद हो गए और यथास्थिति भंग हो गई। हालांकि, निवर्तमान प्रधानमंत्री ने 19 जून 2020 को सार्वजनिक रूप से चीनियों को क्लीन चिट दे दी, जिससे हमारी बातचीत की स्थिति गंभीर रूप से कमजोर हो गई। देपसांग और डेमचोक सहित 2000 वर्ग किमी क्षेत्र भारतीय सैनिकों की सीमा से बाहर हो गया है।

वहीं, चीन के 1962 के आक्रमण को लेकर कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर की ओर से दिए गए विवादास्पद बयान पर कांग्रेस व गांधी परिवार से प्रश्न किया जा रहा है। मणिशंकर अय्यर ने 'नेहरूज फर्स्ट रिक्रूट्स' नामक पुस्तक के विमोचन के मौके पर यह विवादित टिप्पणी की थी। विमोचन कार्यक्रम के एक वीडियो में वह कह रहे हैं कि अक्टूबर 1962 में चीनियों ने कथित तौर पर भारत पर आक्रमण किया था। हालांकि, इस पूरे विषय पर अय्यर ने माफी मांग ली है। (IANS)

ये भी पढ़ें- 

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement