रवीन्द्रनाथ टैगोर ने ब्रिटिश सरकार को क्यों लौटाई 'नाइटहुड' की उपाधि?

रवीन्द्रनाथ टैगोर ने ब्रिटिश सरकार को क्यों लौटाई 'नाइटहुड' की उपाधि?

Image Source : File

3 जून, साल 1915 को टैगोर को मिली थी 'नाइटहुड' यानी 'सर' की उपाधि

Image Source : wikimedia

बांग्ला लेखक और कवि टैगोर को ब्रिटिश सरकार ने दी थी ये उपाधि

Image Source : wikimedia

हालांकि टैगोर ने ये उपाधि ब्रिटिश सरकार को लौटा दी थी

Image Source : wikimedia

13 अप्रैल 1919 को हुए जलियांवाला बाग हत्याकांड के विरोध में लौटाई उपाधि

Image Source : wikimedia

1913 में टैगोर को अपनी रचना 'गीतांजलि' के लिए मिला था नोबेल पुरस्कार

Image Source : wikimedia

गांधी जी को महात्मा कहने का श्रेय भी टैगोर को ही जाता है

Image Source : wikimedia

Next : जब ट्रेन हादसे की साइट पर पहुंचे पीएम मोदी, सामने आई तस्वीरें