गुजरात के सरकारी अवासीय स्कूल के रसोइयों पर छात्राओं का आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड करने का आरोप

वलसाड जिले में आदिवासियों के सरकारी आवासीय स्कूल में पढ़ रही लड़कियों के परिजनों ने वहां खाना बनाने वाले रसोइयों पर अपनी बेटियों के आपत्तिजनक वीडियो बनाने का आरोप लगाया है। इस शिकायत के बाद पुलिस ने मामले में जांच शुरू कर दी है।

Pankaj Yadav Edited By: Pankaj Yadav @pan89168
Published on: September 22, 2022 22:34 IST
Cooks of Gujarat's government residential school accused of recording objectionable video of girl st- India TV Hindi News
Cooks of Gujarat's government residential school accused of recording objectionable video of girl students

Highlights

  • रसोइयों पर लगा आपत्तिजनक वीडियो बनाने का आरोप
  • शिकायत के बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है

गुजरात के आदिवासी आबादी बहुल वलसाड जिले के सरकारी आवासीय स्कूल मे पढ़ने वाली बच्चियों के माता-पिता ने आरोप लगाया है कि स्कूल के पुरुष रसोइयों ने उनकी बेटियों के आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड किये है। अधिकारियों ने बताया कि इन आरोपों के मद्देनजर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। इन बच्चियों के माता-पिता बुधवार को स्कूल में एकत्र हो गए थे और जिले के धर्मपुर तालुका के कारचोंड गांव में स्थित माध्यमिक स्कूल के रसोइयों और कर्मचारियों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की मांग की। इस स्कूल में 600 बच्चियां पढ़ती हैं। 

पुलिस कर रही मामले की जांच

धर्मपुर थाने के निरीक्षक एन.सी. सागर ने कहा, ‘‘माता-पिता ने रसोइयों पर बच्चियों का आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड करने का आरोप लगाया है। उन्होंने छात्राओं को परोसे जाने वाले भोजन की गुणवत्ता और अन्य सुविधाओं का भी मुद्दा उठाया। मामले की जांच की जा रही है।’’ पुलिस अधीक्षक राजदीपसिंह जाला ने बताया कि रसोइयों के मोबाइल फोन से कोई आपत्तिजनक वीडियो बरामद नहीं हुआ है और एक उपाधीक्षक सहित पुलिस की टीम और स्थानीय अपराध शाखा मामले की जांच कर रही है। 

रसोइयों के फोन की हुई जांच

पुलिस अधिकारी ने बताया,‘‘रसोइयों के फोन की जांच की गई और उनमें कोई आपत्तिजनक वीडियो नहीं मिला।’ जाला ने कहा कि स्कूल की सभी छात्राओं से महिला प्रतिनिधियों द्वारा पूछताछ की जा रही है ताकि पता लगाया जा सके कि स्कूल कर्मचारी या अधिकारी उनके साथ कोई गलत व्यवहार तो नहीं करते हैं। 

navratri-2022