1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. Article 370 पर जेडीयू का यू-टर्न, कहा- केंद्र सरकार के कदम का समर्थन करते हैं

Article 370 पर जेडीयू का यू-टर्न, कहा- केंद्र सरकार के कदम का समर्थन करते हैं

अनुच्छेद 370 के रद्द किए जाने का विरोध करने के बाद जेडीयू के वरिष्ठ नेता आर.सी.पी.सिंह ने कहा कि जब कोई कानून प्रभावी हो जाता है तो यह देश का कानून हो जाता है और सभी को इसको स्वीकार करना चाहिए।

IANS Reported by: IANS
Published on: August 07, 2019 22:38 IST
Nitish Kumar- India TV Hindi
Nitish Kumar

पटना: जनता दल (यूनाइटेड) ने बुधवार को यू-टर्न लेते हुए घोषणा की कि वह जम्मू एवं कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने के केंद्र के कदम का समर्थन करते हैं। जेडीयू, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का एक प्रमुख घटक है। अनुच्छेद 370 के रद्द किए जाने का विरोध करने के बाद जेडीयू के वरिष्ठ नेता आर.सी.पी.सिंह ने कहा कि जब कोई कानून प्रभावी हो जाता है तो यह देश का कानून हो जाता है और सभी को इसको स्वीकार करना चाहिए।

जेडीयू के राज्यसभा सांसद सिंह ने कहा, "हम अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने पर सरकार के साथ हैं।" सिंह को बिहार के मुख्यमंत्री व जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार का करीबी माना जाता है। उन्होंने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और यह बना रहेगा।

सिंह ने यह भी बताया कि जेडीयू ने अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने का विरोध क्यों किया। उन्होंने कहा, "हमारे दिवंगत पार्टी नेता जॉर्ज फर्नांडिस ने विवादित मुद्दों पर भाजपा का समर्थन नहीं करने का फैसला किया था। जॉर्ज फर्नांडिस राजग के संयोजक थे। हमारा अनुच्छेद 370 से लगाव है और इसलिए इसको रद्द किए जाने का हमने विरोध किया, क्योंकि हम जॉर्ज फर्नाडिस की आत्मा को कष्ट नहीं पहुंचाना चाहते थे।"

सिंह ने आगे भी पार्टी नेताओं को पार्टी लाइन को ध्यान में रखते हुए इस मुद्दे पर बोलने को लेकर सावधानी बरतने को कहा। दो दिन पहले पार्टी के एक नेता ने नीतीश से जेडीयू के अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने का विरोध करने पर पुनर्विचार करने को कहा।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह द्वारा अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने के प्रस्ताव की घोषणा व राज्य को दो हिस्सों में बांटने व जम्मू एवं कश्मीर व लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के लिए प्रस्ताव लाए जाने के बाद वरिष्ठ जद (यू) नेता के.सी. त्यागी ने कहा था कि पार्टी रद्द किए जाने का विरोध करती है।

erussia-ukraine-news