1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. टकसाल ने गांधी, कामागाटा मारू घटना पर स्मृति सिक्कों की बिक्री शुरू की, 100 और 10 रुपए के मूल्‍य में हैं उपलब्‍ध

टकसाल ने गांधी, कामागाटा मारू घटना पर स्मृति सिक्कों की बिक्री शुरू की, 100 और 10 रुपए के मूल्‍य में हैं उपलब्‍ध

सरकारी टकसाल, मुंबई ने महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से लौटने की शताब्दी तथा कामागाटा मारू घटना पर स्मृति सिक्कों की बिक्री शुरू की है।

Abhishek Shrivastava Abhishek Shrivastava
Published on: July 30, 2017 18:46 IST
टकसाल ने गांधी, कामागाटा मारू घटना पर स्मृति सिक्कों की बिक्री शुरू की, 100 और 10 रुपए के मूल्‍य में हैं उपलब्‍ध- India TV Paisa
टकसाल ने गांधी, कामागाटा मारू घटना पर स्मृति सिक्कों की बिक्री शुरू की, 100 और 10 रुपए के मूल्‍य में हैं उपलब्‍ध

नई दिल्‍ली। सिक्के जमा करने वाले और मुद्रा पर अध्ययन करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। सरकारी टकसाल, मुंबई ने महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से लौटने की शताब्दी तथा कामागाटा मारू घटना पर स्मृति सिक्कों की बिक्री शुरू की है। ये सिक्के महात्मा गांधी की दक्षिण अफ्रीका से वापसी की शताब्दी की थीम पर आधारित हैं और 100 और 10 रुपए मूल्य में उपलब्ध हैं।

कामागाटा मारू घटना 23 मई, 1914 की है। उस समय 376 यात्रियों को लेकर जा रहे जहाज को आव्रजन विवाद की वजह से कनाडा में प्रवेश देने से इनकार कर दिया गया था। इनमें से ज्यादातर यात्री सिख, मुस्लिम और हिंदू थे। इनमें से कई यात्री भारत लौटने के बाद विरोध प्रदर्शन में मारे गए थे। मुंबई टकसाल ने इन स्मृति सिक्कों को बिक्री के लिए रखा है। इनकी बुकिंग ऑफलाइन और ऑनलाइन 26 जुलाई से 26 सितंबर तक की जा सकती है।

कामागाटा मारू घटना की शताब्दी थीम पर सिक्के 100 और 5 रुपए मूल्य में उपलब्ध हैं। सरकारी टकसाल द्वारा जारी विज्ञापन में कहा गया है कि प्रूफ वाले सिक्के 3,225 रुपए प्रत्येक और अनसर्कुलेटेड सिक्के (यूएनसी) 2,644 रुपए में उपलब्ध हैं। इनमें वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) शामिल है।

महात्मा गांधी की 1915 में दक्षिण अफ्रीका से वापसी वाले सिक्कों पर राष्ट्रपिता की दो छवियां पश्चिमी परिधान में एक युवा व्यक्ति और गोल चश्मा पहने एक बुजुर्ग व्यक्ति की छवि अंकित है। वर्ष 2016 में टकसाल ने बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय की शताब्दी पर एक स्मृति सिक्का जारी किया था।

Write a comment