Live TV
GO
Advertisement
Hindi News भारत राष्ट्रीय खतरे के मुहाने पर बैठी है...

खतरे के मुहाने पर बैठी है दिल्ली, आखिर क्यों यहां बार-बार आते हैं भूकंप?

दिल्ली हिमालय के निकट है जो भारत और यूरेशिया जैसी टेक्टॉनिक प्लेटों के मिलने से बना था। धरती के भीतर की इन प्लेटों में होने वाली हलचल की वजह से दिल्ली कानपुर और लखनऊ जैसे इलाकों में भूकंप का खतरा सबसे ज्यादा है।

IndiaTV Hindi Desk
IndiaTV Hindi Desk 20 Feb 2019, 8:50:37 IST

नई दिल्ली: देश के 12 प्रतिशत इलाके भूकंप की दृष्टि से अत्यंत गंभीर आशंका वाले श्रेणी 5 में आते हैं जबकि 18 प्रतिशत क्षेत्र गंभीर आशंका वाले श्रेणी 4 में हैं। उन्हीं में से एक है देश की राजधानी दिल्ली जो भूकंपीय क्षेत्रों के जोन 4 में स्थित है। जोन-4 में होने की वजह से दिल्ली भूकंप का एक भी भारी झटका बर्दाश्त नहीं कर सकती। दिल्ली-एनसीआर में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए। 

दिल्ली हिमालय के निकट है जो भारत और यूरेशिया जैसी टेक्टॉनिक प्लेटों के मिलने से बना था। धरती के भीतर की इन प्लेटों में होने वाली हलचल की वजह से दिल्ली कानपुर और लखनऊ जैसे इलाकों में भूकंप का खतरा सबसे ज्यादा है।

Related Stories

दिल्ली के पास सोहना, मथुरा और दिल्ली-मुरादाबाद तीन फॉल्ट लाइन मौजूद हैं जिसके चलते भूकंप की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। दिल्ली रिज क्षेत्रकम खतरे वाला क्षेत्र है वहीं मध्यम खतरे वाले क्षेत्र हैं दक्षिण पश्चिम उत्तर पश्चिम और पश्चिमी इलाका सबसे ज्यादा खतरे वाले क्षेत्र हैं उत्तर पूर्वी क्षेत्र।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान से प्राप्त जानकारी के अनुसार, हिमालयी क्षेत्र को यूरोप के आल्पस पवर्तीय क्षेत्र की तुलना में अधिक भूस्खलन का सामना करना पड़ता है क्योंकि हिमालय तुलनात्मक दृष्टि से अपरिपक्व, युवा तथा भू परिस्थितिकी एवं जलवायु की दृष्टि से संवेदनशील प्रकृति का पर्वत है।

भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण (जीएसआई) भूस्खलन का अध्ययन करने वाली शीर्ष संस्था है और यह भूस्खलन के संबंध में आपदा से पूर्व और इसके बाद दोनों तरह का अध्ययन करती है। आपदा से पूर्व अध्ययन के तहत जीएसआई भूस्खलन की आशंका का नक्शा तैयार करता है ताकि उन क्षेत्रों की पहचान की जा सके जहां ढ़लान टूटने की आशंका हो।

एक रिसर्च में सामने आया है कि पूर्वी भारत और बांग्लादेश में जल्द ही भयंकर भूकंप आ सकता है। रिसर्चर्स ने दावा किया है कि रिक्टर स्केल पर भूकंप 9 की तीव्रता से आएगा, जिससे भयंकर तबाही मच सकती है। इसकी जद में 14 करोड़ लोगों की जिंदगी है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि गंगा और ब्रह्मपूत्र नदी देश के कई हिस्सों से गुजरती है। अधिक जनसंख्या होने की वजह से नदियों का जल स्तिर कम हो गया है जिससे लगभग बालू और कीचड़ भूकंप की रेखा से उपर आ चुके हैं। जिससे खतरा ज्यादा हो गया है।

रिपोर्ट में जिस इलाके का जिक्र किया गया है वो करीब 100 किलोमीटर तक फैला हुआ है और इस भूकंप का सेंटर बांग्लादेश और भारत की सीमा के नजदीक हो सकता है। स्टडी के मुताबिक बांग्लादेश का ये इलाका सबसे गरीब और घनी आबादी वाला है जिससे भूकंप आने की स्थिति में परिणाम और बुरे हो सकते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक इस भूकंप का सेंटर गंगा और ब्रहमपुत्र नदी के डेल्टा से 19 किलोमीटर धरती के नीचे हो सकता है। इस भूकंप से आस-पास का 62 हज़ार स्क्वायर किलोमीटर का इलाका प्रभावित होगा। वैज्ञानिकों की मानें तो 2004 में आए सुनामी की तरह इस बार भी खतरा आ सकता है। आपको बता दें कि 2004 में आए सुनामी में लगभग 2 लाख 30 हजार लोगों की मोत हुई थी।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन