Hindi News भारत राष्ट्रीय हरिद्वार: हर की पौड़ी में हिंदू बनकर रेस्टोरेंट चला रहा था शख्स, लगातार मिल रहे हैं ऐसे मामले

हरिद्वार: हर की पौड़ी में हिंदू बनकर रेस्टोरेंट चला रहा था शख्स, लगातार मिल रहे हैं ऐसे मामले

आरोपी ने खुद को चुन्नू बताया लेकिन उसके आधार कार्ड में उसके पिता का नाम मोहम्मद मुनीर लिखा था। उन्होंने बताया कि आधार कार्ड से पता चला कि वह उत्तर प्रदेश के मऊ का रहने वाला है।

har ki pauri haridwar- India TV Hindi Image Source : FILE PHOTO हर की पौड़ी, हरिद्वार

हरिद्वार: उत्तराखंड के धार्मिक शहर हरिद्वार में स्थित हर की पौड़ी हिंदुओं का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्नान घाट है। यह पवित्र स्नान घाट गंगा जी के तट पर स्थित है जहां गंगा माता पहाड़ों को छोड़कर हरिद्वार से ही मैदानी क्षेत्र में प्रवेश करती है। माना जाता है कि इस पवित्र धार्मिक नदी में आस्था की डुबकी लगाने से इंसान के सभी पाप धूल जाते हैं। इसी हर की पौड़ी के पास तीर्थयात्रियों के लिए भोजनालय चलाने के वास्ते अपनी पहचान छुपाने और अलग नाम रखने के आरोप में मंगलवार को एक व्यक्ति को पकड़ा गया है।

'हर की पौड़ी क्षेत्र में गैर-हिंदू प्रवेश नहीं कर सकते हैं'
हिंदू धार्मिक स्थलों का प्रबंधन देखने वाले निकाय के अधिकारी ने यह जानकारी दी है। हर की पौड़ी का प्रबंधन देखने वाली गंगा सभा के पदाधिकारी उज्ज्वल पंडित ने बताया कि सभा ने व्यक्ति को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया है। पंडित ने कहा कि नगर निगम के उपनियमों के अनुसार हर की पौड़ी क्षेत्र में गैर-हिंदू प्रवेश नहीं कर सकते हैं। पुलिस अधीक्षक (नगर) स्वतंत्र कुमार ने कहा कि व्यक्ति हिरासत में है और मामले की जांच की जा रही है। पंडित ने दावा किया कि आरोपी ने अपनी धार्मिक पहचान छुपाने के लिए हिंदू नाम धारण कर लिया था।

उन्होंने दावा किया कि आरोपी ने खुद को चुन्नू बताया लेकिन उसके आधार कार्ड में उसके पिता का नाम मोहम्मद मुनीर लिखा था। उन्होंने बताया कि आधार कार्ड से पता चला कि वह उत्तर प्रदेश के मऊ का रहने वाला है।

पहले भी पकड़े गए हैं कई गैर हिंदू
बता दें कि इसके पहले ही हर की पौड़ी में कई गैर हिंदुओं को पहचान छिपाकर दुकान चलाते पकड़ा गया है। पिछले महीने गंगा सभा के पदाधिकारियों ने 3 ऐसे लोगों को पकड़ा था। जब उनसे नाम पूछे गए तो उन्होंने अपने हिंदू नाम बताए लेकिन जब उनके आधार कार्ड की जांच की गई तो एक का नाम अजमल, दूसरे का नाम आसिफ और तीसरे का नाम कल्लन अहमद निकला। बाद में गंगा सभा के लोगों ने तीनों को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

Latest India News