Saturday, July 13, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. चीन का 1 करोड़ से अधिक रोजगार सृजन का लक्ष्य, आर्थिक मंदी के बावजूद शहरी नागरिकों को मिलेगी नौकरी

चीन का 1 करोड़ से अधिक रोजगार सृजन का लक्ष्य, आर्थिक मंदी के बावजूद शहरी नागरिकों को मिलेगी नौकरी

चीन ने इस साल शहरी नागरिकों के लिए आर्थिक मंदी के बावजूद 1.1 करोड़ नई नौकरियों के सृजन का लक्ष्य तय किया है। दूसरी ओर उपभोक्ता महंगाई दर 0.8 फीसदी घटी है।

Dharmender Chaudhary
Published on: March 09, 2017 16:32 IST
चीन का 1 करोड़ से अधिक रोजगार सृजन का लक्ष्य, आर्थिक मंदी के बावजूद शहरी नागरिकों को मिलेगी नौकरी- India TV Paisa
चीन का 1 करोड़ से अधिक रोजगार सृजन का लक्ष्य, आर्थिक मंदी के बावजूद शहरी नागरिकों को मिलेगी नौकरी

बीजिंग। चीन ने इस साल शहरी नागरिकों के लिए आर्थिक मंदी के बावजूद 1.1 करोड़ नई नौकरियों के सृजन का लक्ष्य तय किया है। ‘पीपुल्स डेली’ की रिपोर्ट के अनुसार, यह कदम देश की आर्थिक वृद्धि को मध्यम से उच्च गति की ओर जारी रखने के लिए लिया गया है।

  • चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग ने नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) के वार्षिक सत्र के उद्घाटन बैठक में कार्य रिपोर्ट प्रस्तुत की।
  • इसमें पंजीकृत शहरी बेरोजगार दर 4.5 प्रतिशत के भीतर रखने की भी प्रतिबद्धता जताई।
  • रिपोर्ट में कहा गया कि पिछले तीन सालों में भी इस लक्ष्य को 90 लाख से एक करोड़ किया गया है।

रेनमिन यूनिवर्सिटी ऑफ चाइना के प्राध्यपाक झेंग गोंगचेंग ने कहा, “पिछले साल चीन ने 1.314 करोड़ शहरी रोजगारों का सृजन किया था और चीन को इस साल के लक्ष्य को भी हासिल कर लेना चाहिए।” उन्होंने कहा कि सेवा क्षेत्र और अधिक नौकरियों को पैदा कर सकता है।

चीन की उपभोक्ता महंगाई दर 0.8 फीसदी घटी

  • चीन के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक फरवरी में सालाना आधार पर 0.8 फीसदी ही रही है।
  • यह सूचकांक महंगाई का मुख्य पैमाना है।
  •  राष्ट्रीय सांख्यिकीय ब्यूरो (एनबीएस) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, सूचकांक की दर बाजार के 1.7 फीसदी के अनुमानों से कम ही रही है।
  •  जनवरी में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक की दर 2.5 फीसदी रही थी।
  • चीन के उत्पादक मूल्य सूचकांक (पीपीआई) की सालाना दर फरवरी में 7.8 फीसदी रही।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement