1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. HDFC Bank के पूर्व एमडी आदित्य पुरी बने दवा कंपनी स्ट्राइड्स के सलाहकार, बोइंग देगी 2.5 अरब डॉलर का जुर्माना

HDFC Bank के पूर्व एमडी आदित्य पुरी बने दवा कंपनी स्ट्राइड्स के सलाहकार, बोइंग देगी 2.5 अरब डॉलर का जुर्माना

स्ट्राइड्स फार्मा साइंस ने कहा कि स्टेलिस बोर्ड में पुरी की नियुक्ति कंपनी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: January 08, 2021 13:42 IST
Former HDFC Bank MD Aditya Puri joins Strides Group- India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

Former HDFC Bank MD Aditya Puri joins Strides Group

नई दिल्‍ली। एचडीएफसी बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक आदित्य पुरी वैश्विक दवा फर्म स्ट्राइड्स समूह में एक सलाहकार के रूप में शामिल हुए हैं और वह इसकी सहयोगी कंपनी स्टेलिस बायोफार्मा के निदेशक के रूप में भी काम करेंगे। स्ट्राइड्स फार्मा साइंस लिमिटेड ने शेयर बाजार को बताया कि जानीमानी कॉरपोरेट शख्सियत आदित्य पुरी एक सलाहकार के रूप में स्ट्राइड्स समूह में शामिल हुए हैं और वह इसकी सहयोगी कंपनी स्टेलिस बायोफार्मा के निदेशक भी होंगे।

स्ट्राइड्स फार्मा साइंस ने कहा कि स्टेलिस बोर्ड में पुरी की नियुक्ति कंपनी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। पुरी ने एचडीएफसी बैंक की स्थापना के बाद से 25 साल तक बैंक का नेतृत्व किया और अक्टूबर 2020 में सेवानिवृत्त हुए। उन्होंने एक बेहद सफल कैरियर के दौरान एचडीएफसी को निजी क्षेत्र का सबसे बड़ा बैंक बना दिया।

बोइंग 737 मैक्स को लेकर लगे आरोपों पर 2.5 अरब डॉलर का जुर्माना देगी

विमानन कंपनी बोइंग अमेरिका में न्याय विभाग की एक जांच को बंद करने के लिए 2.5 अरब डॉलर का भुगतान करने को तैयार हो गई है और इसके साथ ही कंपनी ने माना कि उसके कर्मचारियों ने 737 मैक्स विमान की सुरक्षा के बारे में नियामकों को गुमराह किया था, जिनके विमानन सेवाओं में प्रवेश करते ही दो प्राणघातक दुर्घटनाएं हुईं थीं। सरकार और कंपनी ने गुरुवार को कहा कि बोइंग द्वारा दी जाने वाली राशि में दुर्घटना से पीड़ितों परिवारों, विमानन कंपनी के ग्राहकों को मुआवजा और जुर्माना शामिल है।

सुनवाई के दौरान सरकारी वकील ने कहा कि बोइंग के कर्मचारियों ने संघीय उड्डयन प्रशासन को विमान के सुरक्षा कारकों के बारे में भ्रामक और अधूरी जानकारी दी और फिर अपने कृत्य को छिपाने की कोशिश की। कार्यवाहक अटॉर्नी जनरल डेविड बर्न्स ने कहा कि बोइंग के कर्मचारियों ने साफगोई की जगह मुनाफे का रास्ता चुना।

बोइंग ने इसके लिए दो पूर्व पायलटों को दोषी ठहराया, जिन्होंने यह निर्धारित करने में मदद की कि मैक्स के लिए कितना प्रशिक्षण जरूरी था। कंपनी के सीईओ डेविड कैलहौन ने कहा कि इन कर्मचारियों का आचरण बोइंग के चरित्र को नहीं दर्शाता है। 

Write a comment
bigg boss 15