ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. इस्पात, तेल उद्योग दे रहा है दैनिक 6,650 टन आक्सीजन: धर्मेन्द्र प्रधान

इस्पात, तेल उद्योग दे रहा है दैनिक 6,650 टन आक्सीजन: धर्मेन्द्र प्रधान

देश की तेल रिफाइनरियों और इस्पात कारखानों से रोजाना 6,650 मीट्रिक टन आक्सीजन देशभर में कोविड- 19 के मरीजों के इलाज के लिये अस्पतालों और स्वास्थ्य केन्द्रों को भेजी जा रही है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: May 16, 2021 21:36 IST
इस्पात, तेल उद्योग दे रहा है दैनिक 6,650 टन आक्सीजन: धर्मेन्द्र प्रधान- India TV Paisa
Photo:PTI

इस्पात, तेल उद्योग दे रहा है दैनिक 6,650 टन आक्सीजन: धर्मेन्द्र प्रधान

नयी दिल्ली: देश की तेल रिफाइनरियों और इस्पात कारखानों से रोजाना 6,650 मीट्रिक टन आक्सीजन देशभर में कोविड- 19 के मरीजों के इलाज के लिये अस्पतालों और स्वास्थ्य केन्द्रों को भेजी जा रही है। केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने रविवार को यह जानकारी दी। प्रधान के पास पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के साथ ही इस्पात मंत्रालय का भी प्रभार है। रविवार को कई ट्वीट के जरिये उनहोंने कहा कि देश का इस्पात और पेट्रोलियम उद्योग कोविड- 19 महामारी की दूसरी लहर का मुकाबला करने के लिये हर संभव प्रयास कर रहा है। 

उन्होंने कहा कि सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के इस्पात संयंत्रों ने अपनी दैनिक उत्पादन क्षमता को बढ़ाया है। उन्होंने तरल नाइट्रोजन और एरगोन उत्पादन क्षमता को तरल चिकित्सा आक्सीजन की अतिरिक्त मात्रा का उत्पादन करने के लिये इस्तेमाल किया है। मंत्री ने कहा, ‘‘देश में 10,000 मीट्रिक टन आक्सीजन के दैनिक आवंटन में 6,650 मीट्रिक टन का उत्पादन और उसकी आपूर्ति करके देश के इस्पात कारखाने और तेल रिफाइनरियां भारत की कोविड- 19 के खिलाफ जारी लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं।’’ 

प्रधान ने कहा कि इस्पात विनिर्माता कंपनियां सेल, आरआईएनएल, टाटा स्टील लिमिटेड, एएमएनएस इंडिया, जेएसपीएल ने तरल चिकित्सा आक्सीजन की आपूर्ति को एक अप्रैल 2021 के 538 टन से बढ़ाकर अब 4,473 मीट्रिक टन तक पहुंचा दिया है। मंत्री ने आगे कहा कि देश में अस्थाई तौर पर आक्सीजन सुविधा वाले बिस्तरों की भी पेट्रोलियम और इस्पात कंपनियां व्यवस्था कर रही हैं और देशभर में उनहोंने ऐसे दस हजार से अधिक बिस्तरों की व्यवस्था की है। 

उन्होंने कहा कि सेल, आरआईएनएल, मॉयल, जेएसपीएल और टाटा स्टील देशभर में विभिन्न स्थानों पर 8,500 से अधिक आक्सीजन सुविधा वाले बिस्तरों की स्वास्थ्य सुविधाओं को स्थापित किया है। एएमएनएस इंडिया ने अपने हजीरा संयंत्र के पास 250 बिस्तरों का कोविड- केयर अस्पताल शुरू किया है। इसे बाद में बढ़ाकर एक हजार बिस्तरों तक किया जायेगा। 

एक अन्य ट्वीट में प्रधान ने कहा, ‘‘इंडियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड ने पानीपत की अपनी रिफाइनरी के पास 500 बिस्तरों की सुविधा वाले जंबो कोविड केयर सुविधा को दैनिक 15 टन गैस आपूर्ति शुरू कर दी है। इसी प्रकार सीपीसीएल चेन्नई और एचएमईएल बठिंडा रिफाइनरी अपने अपने इलाकों में स्थित 200 और 100 बेड के अस्पतालों को गैस आपूर्ति की प्रक्रिया में हैं।’’ 

इसी प्रकार सार्वजनिक क्षेत्र की एक अन्य तेल कंपनी आयल एण्ड नेचुरल गैस कार्पोरेशन (ओएनजीसी) एक लाख आक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीद कर रही है। वहीं इंडियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड 207 आईएसओ टेंकर के लिये अनुबंध किया है। प्रधान ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियों ने सउदी अरब, यूएई, सिंगापुर, बहरीन, कुवैत और कतर की तेल कंपनियों के साथ 13,740 टन तरल आक्सीजन की आपूर्ति के लिये गठबंधन कर रही हैं। 

Write a comment
elections-2022