1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Whatsapp की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर यूरोपीय संघ में भी बवाल, उपभोक्ता समूहों ने दर्ज की शिकायत

Whatsapp की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर यूरोपीय संघ में भी बवाल, उपभोक्ता समूहों ने दर्ज की शिकायत

यूरोपीय संघ के उपभोक्ता समूहों ने फेसबुक के स्वामित्व वाली मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप के खिलाफ निजता अपडेट को लेकर शिकायत दायर की है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 13, 2021 8:45 IST
Whatsapp की प्राइवेसी...- India TV Paisa
Photo:AP

Whatsapp की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर यूरोपीय संघ में भी बवाल, उपभोक्ता समूहों ने दर्ज की शिकायत 

लंदन। यूरोपीय संघ के उपभोक्ता समूहों ने फेसबुक के स्वामित्व वाली मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप के खिलाफ निजता अपडेट को लेकर शिकायत दायर की है। समूहों का कहना है कि व्हाट्सऐप उपयोगकर्ताओं पर एक नए निजता अपडेट को स्वीकार करने के लिए गलत तरीके से दबाव डाल रही है और यह यूरोपीय संघ के नियमों का उल्लंघन है। यूरोपियन कंज्यूमर ऑर्गेनाइजेशन (बीईयूसी) ने व्हाट्सएप द्वारा उसकी सेवा की शर्तों और निजता नीति में बदलाव करने के तरीकों को लेकर सोमवार को शिकायत दायर किया और कहा कि वे पारदर्शी नहीं हैं या उपयोगकर्ताओं को आसानी से समझ में नहीं आते हैं। 

इस साल की शुरुआत में व्हाट्सऐप द्वारा निजता अपडेट लाए जाने के साथ बहुत सारे उपयोगकर्ताओं ने निजता से जुड़ी चिंताओं को देखते हुए सिग्नल और टेलीग्राम जैसे दूसरे चैट ऐप का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था। व्हाट्सऐप के निजता नीति अपडेट को लेकर यह चिंताएं उठ रही हैं कि इन बदलावों से फेसबुक को उपयोगकर्ताओं के बारे में और निजी जानकारी हासिल करने में मदद मिलेगी। 

पढें-  LPG ग्राहकों को मिल सकते हैं 50 लाख रुपये, जानें कैसे उठा सकते हैं लाभ

पढें-  खुशखबरी! हर साल खाते में आएंगे 1 लाख रुपये, मालामाल कर देगी ये स्कीम

बीईयूसी की महानिदेशक मोनिक गोयन्स ने कहा, "व्हाट्सऐप महीनों से उपयोगकर्ताओं पर आक्रामक तरीके से और लगातार स्क्रीन पर आने वाले संदेशों के साथ बमबारी कर रहा है ताकि उन्हें अपनी उपयोग की नयी शर्तों और निजता नीति को स्वीकार करने के लिए मजबूर किया जा सके।" 

पढें-  हिंदी समझती है ये वॉशिंग मशीन! आपकी आवाज पर खुद धो देगी कपड़े

पढें-  किसान सम्मान निधि मिलनी हो जाएगी बंद! सरकार ने लिस्ट से इन लोगों को किया बाहर

मोनिक ने कहा, "वे उपयोगकर्ताओं से कह रहे हैं कि नयी शर्तों को ना स्वीकार करने पर उनकी ऐप की सेवा बंद कर दी जाएगी। इसके बावजूद उपभोक्ताओं को नहीं पता कि वे असल में क्या स्वीकार रहे हैं।" बीईयूसी और आठ सदस्य देशों के उपभोक्ता अधिकार समूहों ने यूरोपीय संघ के कार्यकारी आयोग और उपभोक्ता प्राधिकरणों के नेटवर्क के समक्ष शिकायत दायर किया है।

Write a comment
bigg boss 15