ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. स्वेज नहर के जाम से भारत पर बढ़ा संकट, निपटने के लिए सरकार अपनाएगी ये '4 आइडिया'

स्वेज नहर के जाम से भारत पर बढ़ा संकट, निपटने के लिए सरकार अपनाएगी ये '4 आइडिया'

सरकार ने शुक्रवार को कहा कि स्वेज नहर के अवरुद्ध होने से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए चार सूत्री योजना बनाई गई है।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 27, 2021 11:19 IST
स्वेज नहर में लगा...- India TV Paisa
Photo:PTI

स्वेज नहर में लगा एतिहासिक जाम, निपटने के लिए भारत सरकार अपनाएगी ये '4 आइडिया'

नयी दिल्ली। सरकार ने शुक्रवार को कहा कि स्वेज नहर के अवरुद्ध होने से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए चार सूत्री योजना बनाई गई है। रसद विभाग, वाणिज्य मंत्रालय द्वारा बुलाई गई बैठक में इस योजना की रूपरेखा तैयार की गई। इसमें कार्गो की प्राथमिकता वाले सामान का परिवहन, माल भाड़े की दरों में बदलाव, बंदरगाहों के लिए सलाह और जहाजों के दूसरे मार्ग का चुनना शामिल हैं। इस संबंध में एक बैठक की अध्यक्षता विशेष सचिव (रसद) पवन अग्रवाल ने की, जिसमें पोर्ट, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्रालय, एडीजी शिपिंग, कंटेनर शिपिंग लाइन्स एसोसिएशन (CSLA) और भारतीय निर्यात संगठनों के महासंघ के प्रतिनिधि शामिल हुए।

पढें-  SBI में सिर्फ आधार की मदद से घर बैठे खोलें अकाउंट, ये रहा पूरा प्रोसेस

पढें-  Amazon के नए 'लोगो' में दिखाई दी हिटलर की झलक, हुई फजीहत तो किया बदलाव

कार्गो की प्राथमिकता के तहत, FIEO, MPEDA और APEDA संयुक्त रूप से कार्गो को प्राथमिकता के साथ मूवमेंट के लिए विशेष रूप से खराब होने वाले सामान की पहचान करेंगे और उसी के लिए शिपिंग लाइनों के साथ काम करेंगे। इसके अलावा, CSLA ने आश्वासन दिया कि मौजूदा अनुबंधों के अनुसार माल की दरों को सम्मानित किया जाएगा। वाणिज्य मंत्रालय ने कहा, "इस संकट की अवधि के दौरान माल ढुलाई दरों में स्थिरता बनाए रखने के लिए शिपिंग लाइनों से अनुरोध किया गया है। उन्हें यह बताया गया है कि स्थिति अस्थायी है और लंबे समय तक चलने वाले प्रभाव की संभावना नहीं है।"

एक बार रुकावट खत्म हो जाने के बाद, यह उम्मीद की जाती है कि जेएनपीटी, मुंद्रा और हजीरा के बंदरगाहों पर अतिरिक्त जहाज इकट्ठे हो सकते हैं।। बयान में कहा गया है, "बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्रालय ने इन बंदरगाहों के लिए एक एडवाइजरी जारी करने का आश्वासन दिया है ताकि आगामी व्यस्त अवधि के दौरान व्यवस्थाओं को सुनिश्चित किया जा सके और कुशल संचालन सुनिश्चित किया जा सके।"

पढें-  Aadhaar के बिना हो जाएंगे ये काम, सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर जरूरत को किया खत्म

पढें-  बैंक के OTP के नाम हो रहा है फ्रॉड, खाली हो सकता है अकाउंट, ऐसे रहे सावधान

इसके अलावा, केप ऑफ गुड होप के माध्यम से जहाजों के पुन: मार्ग के विकल्प का पता लगाने के लिए सीएसएलए के माध्यम से शिपिंग लाइनों की सलाह दी गई थी। यह बताया गया कि इस तरह की री-रूटिंग में आमतौर पर 15 अतिरिक्त दिन लगते हैं। वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि 23 मार्च 2021 से स्वेज नहर की रुकावट, गंभीरता से वैश्विक व्यापार को रोक रही है।

इस मार्ग का उपयोग उत्तर अमेरिका, दक्षिण अमेरिका और यूरोप से भारतीय निर्यात और 200 बिलियन अमरीकी डालर के आयात के लिए किया जाता है। इसमें पेट्रोलियम सामान, कार्बनिक रसायन, लोहा और इस्पात, ऑटोमोबाइल, मशीनरी, कपड़ा और कालीन, और हस्तशिल्प, फर्नीचर और चमड़े के सामान शामिल हैं। बैठक में बताया गया कि 200 से अधिक जहाज स्वेज नहर के उत्तर और दक्षिण किनारों पर इंतजार कर रहे हैं।

Write a comment
elections-2022