1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. 1 नवंबर से बदल रहे हैं एलपीजी सिलेंडर की होम डिलीवरी के नियम, जानिए क्या है नई शर्त

1 नवंबर से बदल रहे हैं एलपीजी सिलेंडर की होम डिलीवरी के नियम, जानिए क्या है नई शर्त

तेल कंपनियों ने एलपीजी सिलेंडर की होम डिलीवरी के लिए डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड लागू करने का ऐलान किया है। यह नियम सिलेंडर की चोरी को रोकने के लिए और सही ग्राहक की पहचान करने के लिए लाया गया है, जो कि पहली नवंबर से लागू होने जा रहा है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: October 16, 2020 21:22 IST
 एलपीजी सिलेंडर की...- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

 एलपीजी सिलेंडर की होम डिलीवरी के नियम

नई दिल्ली। अगले महीने से एलपीजी सिलेंडर की होम डिलिवरी के लिए नियम बदलने जा रहे हैं। सिलेंडर की चोरी रोकने के लिए और सही ग्राहक की पहचान के लिए कंपनियां एक नवंबर से नया डिलीवरी सिस्टम लागू करने जा रही हैं। ये नियम सिर्फ घरेलू सिलेंडर के लिए लागू किया जा रहा है, वहीं कमर्शियल सिलेंडर पर पुराने नियम जारी रहेंगे।

क्या है नया नियम

तेल कंपनियों ने एक नवंबर से डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड लागू करने का ऐलान किया है। नए सिस्टम के तहत घरेलू सिलेंडर की होम डिलीवरी के लिए ओटीपी (OTP) जरूरी होगा। इसके लिए एक एप तैयार किया गया। ग्राहक के द्वारा गैस बुक करने पर उसके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजा जाएगा। इसे आपको डिलीवरी ब्वॉय को देना होगा। बिना कोड आपको सिलेंडर की होम डिलीवरी नहीं होगी। इससे सुनिश्चित होगा कि सिलेंडर उसी के पास पहुंच रहा है जिसने बुकिंग की थी। हालांकि नए नियमों से उन लोगों को परेशानी हो सकती है जिनके मोबाइल नंबर कंपनियों के सिस्टम में अपडेट नहीं हैं या फिर सिस्टम में गलत मोबाइल नंबर दिया है।

क्या होगा अगर मोबाइल अपडेट नहीं है या बदल गया है
एप की मदद से मोबाइल नंबर को अपडेट करने की सुविधा भी दी गई है। घर पर गैस की डिलीवरी के वक्त ही डिलीवरी ब्वॉय अपने पास मौजूद ऐप की मदद से आपका नया मोबाइल फोन अपडेट कर सकता है। अगर गैस बुक करने के बाद आपके पास ओटीपी न आए तो संभव है कि सिस्टम में आपका पुराना या गलत नंबर मौजूद है। ऐसे में दी गई सुविधा का इस्तेमाल कर मोबाइल फोन अपडेट कर सकते हैं।

कहां कहां लागू होगा नया नियम
शुरुआत में ये नियम बड़े शहरों के उपभोक्ताओं के ऊपर ही लागू होगा। तेल कंपनियां सिस्टम को पहले 100 स्मार्ट सिटी में लागू करने जा रही हैं। हालांकि बाद में ओटीपी सिस्टम पूरे देश में लागू किया जाएगा। फिलहाल इसका पायलट प्रोजेक्ट सफलतापूर्वक जयपुर और कोयंबटूर में चलाया जा चुका है।   

Write a comment
X