1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. आर्थिक सर्वे : खुले में शौच से मुक्ति के कारण प्रति परिवार हो रही है सालाना 50,000 रुपए की बचत

आर्थिक सर्वे : खुले में शौच से मुक्ति के कारण प्रति परिवार हो रही है सालाना 50,000 रुपए की बचत

सरकार के स्वच्छता कार्यक्रम से स्वास्थ्य एवं आर्थिक प्रभाव पड़ा है और खुले में शौच से मुक्त गांव में प्रति परिवार सालाना 50,000 रुपए की बचत का अनुमान है।

Manish Mishra Manish Mishra
Published on: January 29, 2018 15:38 IST
Toilet- India TV Paisa
Open Defecation Free

नई दिल्ली सरकार के स्वच्छता कार्यक्रम से स्वास्थ्य एवं आर्थिक प्रभाव पड़ा है और खुले में शौच से मुक्त गांव में प्रति परिवार सालाना 50,000 रुपए की बचत का अनुमान है। आर्थिक सर्वे के अनुसार, अब तक पूरे देश में 296 जिलों तथा 3,07,349 गांव को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित किया गया है। समीक्षा के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में खुले में शौच जाने वाले व्यक्तियों की संख्या में तेजी से कमी आई है। इससे खुले में शौच से मुक्त क्षेत्रों में सकारात्मक स्वास्थ्य और आर्थिक प्रभाव दिखाई पड़ता है।

वित्त मंत्री अरूण जेटली द्वारा संसद में आज पेश 2017-18 की आर्थिक समीक्षा के अनुसार 2 अक्टूबर 2014 को शुरू किए गए स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) कार्यक्रम की शुरुआत के बाद ग्रामीण क्षेत्र में स्वच्छता का दायरा 2014 के 39 प्रतिशत से बढ़कर जनवरी, 2018 में 76 प्रतिशत हो गया है।

समीक्षा में कहा गया है कि 2014 में खुले में शौच जाने वाले व्यक्तियों की आबादी 55 करोड़ थी, जो जनवरी, 2018 में घटकर 25 करोड़ हो गई है। अब तक पूरे देश में 296 जिलों तथा 3,07,349 गांव को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित किए गये हैं।

इसमें कहा गया है कि आठ राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों - सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, केरल, हरियाणा, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, अरुणाचल प्रदेश, गुजरात, दमन और दीव तथा चंडीगढ़ - को खुले में शौच से पूर्ण रूप से मुक्त घोषित किया गया है।

राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएस) तथा भारतीय गुणवत्ता परिषद (क्यूसीआई) की रिपोर्टों के आधार पर शौचालय तक पहुंच वाले लोगों की संख्या में 2016 के मुकाबले 2017 में 90 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है। यूनिसेफ की ‘भारत में स्वच्छ भारत मिशन (एसबीएम) का वित्तीय और आर्थिक प्रभाव’ रिर्पोट में आकलन किया गया है कि ओडीएफ गांव में एक परिवार प्रतिवर्ष 50,000 रुपए की बचत करता है।

namaste-trump-indiatv
Write a comment
namaste-trump-indiatv