1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Crypto-crisis: क्रिप्टो एक्सचेंज FTX में फंड के संकट से कारोबार ठप, जानिए क्या करें निवेशक

Crypto-crisis: क्रिप्टो एक्सचेंज FTX में फंड के संकट से कारोबार ठप, जानिए क्या करें निवेशक

क्रिप्टोकरेंसी के जानकारों का कहना है कि मौजूदा समय में निवेशकों के पास इंतजार करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। जब एक्सचेंज से निवेश निकालने की अनुमति होगी तभी निवेशक कुछ कर पाएंगे।

Alok Kumar Edited By: Alok Kumar @alocksone
Published on: November 13, 2022 11:18 IST
क्रिप्टो एक्सचेंज- India TV Paisa
Photo:FILE क्रिप्टो एक्सचेंज

Crypto-crisis: दुनिया की तीसरे सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज FTX में संकट गहराता जा रहा है। अब एफटीएक्स ने खातों तक 'गैरकानूनी पहुंच' और फंड का अभाव होने से निवेशकों के लिए कारोबार या निकासी का विकल्प बंद करने के साथ ही दिवाला प्रक्रिया से बचने की अर्जी लगा दी है। इस खबर के बाद इस एक्सचेंज से क्रिप्टोकरेंसी में पैसा लगाने वाले दुनियाभर के निवेशक परेशानी में है। क्रिप्टोकरेंसी के जानकारों का कहना है कि मौजूदा समय में निवेशकों के पास इंतजार करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। जब  एक्सचेंज से निवेश निकालने की अनुमति होगी तभी निवेशक कुछ कर पाएंगे। 

47.7 करोड़ डॉलर की बड़ी राशि गायब

अभी यह नहीं पता चल पाया है कि एफटीएक्स के खातों तक अनधिकृत पहुंच होने से कितनी राशि खतरे में आई है लेकिन विश्लेषक फर्म एलिप्टिक का मानना है कि एक्सचेंज से 47.7 करोड़ डॉलर की बड़ी राशि गायब हो चुकी है। इस बारे में सोशल मीडिया पर ऐसी चर्चाएं तेज हो गई हैं कि कहीं एफटीएक्स के खातों की हैकिंग तो नहीं हो गई थी। इसके अलावा किसी भीतरी शख्स के ही इस गड़बड़ी में शामिल होने की भी आशंका जताई जा रही है। महज दो हफ्ते पहले तक एफटीएक्स दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज था। 

सीईओ ने इस्तीफा दे दिया

एफटीएक्स के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) जॉन रे तृतीय ने शनिवार को कहा कि एफटीएक्स अपने ग्राहकों को मंच पर क्रिप्टोकरेंसी के कारोबार या फंड निकासी की सुविधा बंद कर रहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ग्राहकों की परिसंपत्तियों को सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। कंपनी के वकील राएन मिलर ने कहा कि एफटीएक्स कानूनी एजेंसियों एवं नियामक संस्थाओं के साथ ही सहयोग कर रही है। लेकिन कुछ दिनों में ही इसके परिसंपत्ति आकार में भारी गिरावट आई और शुक्रवार को इसके संस्थापक एवं सीईओ सैम बैंकमैन-फ्राइड ने इस्तीफा दे दिया। इसके साथ ही एक्सचेंज ने दिवाला प्रक्रिया से बचने की अर्जी भी लगा दी है। इसने अपनी परिसंपत्तियों का मूल्य 10 अरब डॉलर से लेकर 50 अरब डॉलर तक लगाया है।

Latest Business News