1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. आठ महीने के न्यूनतम स्तर पर पहुंचा Crude Oil, सस्ते हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम?

आठ महीने के न्यूनतम स्तर पर पहुंचा Crude Oil, सस्ते हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम?

Crude Oil Price: रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते मार्च में कच्चे तेल की कीमत 139 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई थी जो 2008 के बाद अब तक का उच्चतम स्तर था।

Vikash Tiwary Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Published on: September 26, 2022 15:53 IST
आठ महीने के न्यूनतम...- India TV Hindi
Photo:PTI आठ महीने के न्यूनतम स्तर पर पहुंचा Crude Oil

Highlights

  • काफी गिरावट के बाद कच्चा तेल 90 डॉलर प्रति बैरल के नीचे आ गया है
  • कुछ महीने पहले मंहगाई चरम पर थी
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी दी थी जानकारी

Crude Oil Price: अंतर्राष्ट्रीय बाजार में महंगाई में कमी और ब्रेंट कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के कारण पिछले कुछ हफ्तों में बेंचमार्क सरकारी बॉन्ड पर 18 बेसिस प्वाइंट्स (Basis Points) से अधिक की गिरावट आई है। रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते मार्च में कच्चे तेल की कीमत 139 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई थी जो 2008 के बाद अब तक का उच्चतम स्तर था। काफी गिरावट के बाद यह 90 डॉलर प्रति बैरल के नीचे आ गया है। अुनुमान है कि जल्द ही पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) की कीमतों में भी कमी देखने को मिलेगी।

मुंबई की डेट एडवाइजरी फर्म रॉकफोर्ट फिनकॉर्प एलएलपी के फाउंडर और मैनेजिंग पार्टनर वेंकटकृष्णन श्रीनिवासन ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में नरमी के अलावा, भारतीय बॉन्ड इंडेक्स में बहुत जल्द शामिल होने की उम्मीद है। इस खबर ने निवेशक और ट्रेडिंग सेगमेंट के बीच सकारात्मक माहौल पैदा कर दिया है, क्योंकि बाजार अब ऋण प्रतिभूतियों में 30 अरब डॉलर से अधिक की आमद की उम्मीद कर रहा है। इसके परिणामस्वरूप सरकारी बॉन्ड यील्ड लगातार गिर रही है। 22 मई को सरकार ने पेट्रोल पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क में कमी करने का फैसला किया था।

कुछ महीने पहले मंहगाई चरम पर थी

कुछ महीने पहले मंहगाई चरम पर थी। जुलाई महीने में भारी गिरावट देखी गई है। खाद्य कीमतों में कमी के कारण जुलाई में सीपीआई कम होकर 6.70 प्रतिशत पर आ गई थी। हालांकि, कुल संख्या अभी भी लगातार सातवें महीने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के ऊपरी टॉलरेंस बैंड से ऊपर है।

जेएम फाइनेंशियल में प्रबंध निदेशक और प्रमुख संस्थागत अजय मंगलुनिया ने कहा, "अगर हम महंगाई के पहलू से कोई झटका और आश्चर्य नहीं देखते हैं तो बॉन्ड प्रतिफल यहां से आगे बढ़ने की उम्मीद है। एफपीआई प्रवाह को फिर से शुरू करने से अंतत: इस महीने के अंत में 7 साल से नीचे जी-सेक की पैदावार हो सकती है।"

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी दी थी जानकारी

इस सप्ताह की शुरुआत में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि वैश्विक सूचकांकों में बॉन्ड को शामिल करने की अनुमति देने का 2020 का बजट प्रस्ताव आगे नहीं बढ़ सकता, क्योंकि फंड प्रवाह वांछित स्तरों को पूरा नहीं करता है। श्रीनिवासन ने कहा कि सरकारी बॉन्ड इंडेक्स में शामिल होने की उम्मीद के आधार पर बाजार अभी भी सकारात्मक बना रहेगा। तेल की कीमतों में गिरावट कुछ हद तक सकारात्मक बॉन्ड बाजार रैली के ईंधन को बढ़ाएगी।

व्लादिमीर पुतिन ने स्पष्ट शब्दों में दिया था संकेत

बाजार के कई सपोर्टिव फैक्टर्स के बावजूद बुधवार को तेल में गिरावट आई है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि देश किसी भी राष्ट्र को ऊर्जा की आपूर्ति नहीं करेगा जो देश के कच्चे तेल पर एक नियोजित अमेरिकी नेतृत्व वाली मूल्य सीमा का समर्थन करता है। इसके अलावा, ऊर्जा सूचना प्रशासन ने वैश्विक तेल मांग के लिए अपना दृष्टिकोण बढ़ाया, जबकि अमेरिकी आपूर्ति के पूर्वानुमान में भी कटौती की गई है।

Latest Business News