Monday, June 24, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. Nifty को ऊंचाई पर पहुंचाएंगे ये स्टॉक्स, एक्सपर्ट ने कहा-बाजार मजबूत स्थिति में

Nifty को ऊंचाई पर पहुंचाएंगे ये स्टॉक्स, एक्सपर्ट ने कहा-बाजार मजबूत स्थिति में

निफ्टी बुधवार को 121.5 अंक ऊपर चढ़कर 19,811.35 पर था, जबकि सेंसेक्स 394 अंक ऊपर 66,473.05 पर बंद हुआ। भू-राजनीतिक चिंताओं से जुड़ी आशंकाओं को बाजार ने खुद में समेट लिया है।

Edited By: Sourabha Suman @sourabhasuman
Updated on: October 12, 2023 12:02 IST
फ्रंटलाइन शेयरों के चलते निफ्टी में सप्ताह के दौरान 1.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।- India TV Paisa
Photo:REUTERS फ्रंटलाइन शेयरों के चलते निफ्टी में सप्ताह के दौरान 1.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी (Nifty) हाल के दिनों में तेजी के रुख पर है। एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के बिजनेस डेवलपमेंट, इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज के प्रमुख जयकृष्ण गांधी ने कहा कि रिलायंस (Reliance stocks) और एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank stock) जैसे फ्रंटलाइन शेयरों के चलते निफ्टी में सप्ताह के दौरान 1.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। निफ्टी बुधवार को 121.5 अंक ऊपर चढ़कर 19,811.35 पर था, जबकि सेंसेक्स 394 अंक ऊपर 66,473.05 पर बंद हुआ। उनका कहना है कि भू-राजनीतिक चिंताओं से जुड़ी आशंकाओं को बाजार ने खुद में समेट लिया है।

बाजार मजबूत स्थिति में दिख रहा

खबर के मुताबिक, बाजार को फेड अधिकारियों के कमेंट से भी सपोर्ट मिला, जिन्होंने भविष्य में दरों में बढ़ोतरी की कम संभावना का संकेत दिया था। IANS की खबर के मुताबिक, गांधी ने कहा कि भारतीय बाजार कमाई का मौसम शुरू करेगा। निकट भविष्य में, भू-राजनीतिक चिंताओं के बावजूद बाजार मजबूत स्थिति में दिख रहा है और हमारा मानना है कि रिलायंस, एचडीएफसी बैंक और एफएमसीजी जैसे फ्रंटलाइन स्टॉक निफ्टी (Nifty) को ऊपर ले जा सकते हैं। कुल मिलाकर आईटी की कमाई कमजोर रहनी चाहिए, लेकिन वैश्विक तकनीकी खर्च के संबंध में बहुत कुछ 2एच टिप्पणी पर निर्भर करेगा जो आईटी में रुचि वापस ला सकता है।

ऑटो सेक्टर में कंपनियों की अच्छी रहेगी इनकम
अनुमान है कि ऑटो सेक्टर में कंपनियों को अच्छी आय रिपोर्ट करनी चाहिए, खासकर मारुति जैसी कंपनियों को, जबकि सीमेंट क्षेत्र को फायदा होना चाहिए। पीजीआईएम इंडिया म्यूचुअल फंड के सीआईओ विनय पहाड़िया ने भारतीय इक्विटी (share market) के लिए लंबे पीरियड के दृष्टिकोण पर कहा कि कम अवधि के नजरिए से हम बाजार पर सतर्क रुख रखते हैं, क्योंकि हमें उम्मीद है कि निकट अवधि में कॉर्पोरेट इनकम में बढ़ोतरी धीमी रहेगी। संभावित मंदी कुछ विकसित बाजारों में बढ़ी हुई ब्याज दरों और महामारी अवधि से दबी हुई मांग में कमी के चलते हो सकती है।

भारत के लिए, कमजोर मॉनसून, महंगाई में बढ़ोतरी, कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें और एफआईआई फ्लो में मंदी प्रमुख निकट अवधि के जोखिम हैं। जैसे-जैसे हम 2024 के करीब पहुंच रहे हैं, हम मई 2024 में होने वाले लोकसभा चुनावों के चलते बढ़ी हुई अस्थिरता देखेंगे। हम भारतीय इक्विटी के दीर्घकालिक दृष्टिकोण पर आशावादी बने हुए हैं।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Market News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement