Live TV
GO
Advertisement
Hindi News लाइफस्टाइल जीवन मंत्र Pradosh Vrat 2019: प्रदोष व्रत का...

Pradosh Vrat 2019: प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त, पूजन सामग्री और पूजा विधि

Pradosh Vrat 2019: हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत का काफी महत्व है। इस बार प्रदोष व्रत 17 अप्रैल को है। बुधवार को पड़ने के कारण इस दिन बुध प्रदोष योग बन रहा है। आज ऐसे करें भगवान शिव की पूजा। जानें शुभ मुहूर्त, पूजन सामग्री के साथ पूजा विधि।

India TV Lifestyle Desk
India TV Lifestyle Desk 17 Apr 2019, 7:15:59 IST

Pradosh Vrat 2019: हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत का काफी महत्व है। इस बार प्रदोष व्रत 17 अप्रैल को है। बुधवार को पड़ने के कारण इस दिन बुध प्रदोष योग बन रहा है। आज ऐसे करें भगवान शिव की पूजा। जानें शुभ मुहूर्त, पूजन सामग्री के साथ पूजा विधि।

प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त
17 अप्रैल 2019 बुधवार रात 1:26 से सुबह 10:24

प्रदोष व्रत के पूजन के लिए सामग्री
भोले की उपासना के लिए पूजन शुरू करने से पहले तांबे का पात्र, तांबे का लोटा, दूध, अर्पित किए जाने वाले वस्त्र, चावल, अष्टगंध, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, चंदन, धतूरा, अकुआ के फूल, बिल्वपत्र, जनेऊ, फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, पान और दक्षिणा एकत्रित कर लें।

प्रदोष व्रत की पूजा विधि
प्रदोष में बिना कुछ खाए व्रत रखने का विधान है। ऐसा करना संभव न हो तो एक समय फल खा सकते हैं। इस दिन सुबह स्नान करने के बाद भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए। भगवान शिव-पार्वती और नंदी को पंचामृत व गंगाजल से स्नान कराकर बिल्व पत्र, गंध, चावल, फूल, धूप, दीप, नैवेद्य (भोग), फल, पान, सुपारी, लौंग और इलायची चढ़ाएं। शाम के समय फिर से स्नान करके इसी तरह शिवजी की पूजा करें। भगवान शिव को घी और शक्कर मिले जौ के सत्तू का भोग लगाएं। आठ दीपक आठ दिशाओं में जलाएं। इसके बाद शिवजी की आरती करें। रात में जागरण करें और शिवजी के मंत्रों का जाप करें। इस तरह व्रत व पूजा करने से व्रती (व्रत करने वाला) की हर इच्छा पूरी हो सकती है।

Mahavira Jayanti 2019: महावीर स्वामी के अनमोल वचन, जो बदल देंगे आपकी जिंदगी

17 अप्रैल राशिफल: उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र में बन रहे है 2 शुभ योग, मेष, वृश्चिक और तुला राशि का कुछ ऐसा बीतेगा दिन

Mahavir Jayanti 2019: जानें आखिर क्यों मनाई जाती है महावीर जयंती, साथ ही जानिए इसकी पूरा इतिहास

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन