1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. पुराने वाहनों को स्‍क्रैप बनाने के लिए मारुति व टोयोटा ने मिलाया हाथ, नोएडा में स्‍थापित किया नया संयंत्र

पुराने वाहनों को स्‍क्रैप बनाने के लिए मारुति व टोयोटा ने मिलाया हाथ, नोएडा में स्‍थापित किया नया संयंत्र

मारुति सुजुकी टोयोट्सू इंडिया द्वारा नोएडा में स्थापित संयंत्र पहला है और पूरे भारत में ऐसे अन्य संयंत्रों को स्थापित किया जाएगा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: November 06, 2019 12:08 IST
Maruti Suzuki and Toyota Tsusho to set up Vehicle Dismantling and Recycling unit- India TV Paisa
Photo:MARUTI SUZUKI AND TOYOTA

Maruti Suzuki and Toyota Tsusho to set up Vehicle Dismantling and Recycling unit

नई दिल्‍ली। मारुति सुजुकी और टोयोटा टूशो ग्रुप ने आज वाहन विघटन और रिसाइकिलिंग संयुक्त उपक्रम, मारुति सुजुकी टोयोट्सू इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एमएसटीआई) की स्थापना करने की घोषणा की है। यह संयुक्‍त उपक्रम मारुत‍ि सुजुकी इंडिया लिमिटेड (एमएसआईएल) और टोयोटा टूशो ग्रुप व टोयोटा टूशो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (टीटीआईपीएल) के बीच बराबर हिस्‍सेदारी का है। इसमें दोनों पक्षों की 50-50 प्रतिशत हिस्‍सेदारी है।

मारुति सुजुकी टोयोट्सू इंडिया प्राइवेट लिमिटेड का मुख्‍यालय नई दिल्‍ली में है और इसने अपना वाहन विघटन और रिसाइकलिंग संयंत्र उत्‍तर प्रदेश के नोएडा में स्‍थापित किया है। यह कंपनी पुराने वाहनों को खरीदने और उन्‍हें स्‍क्रैप में बदलने के लिए जिम्‍मेदार होगी। संपूर्ण ठोस और तरल कचरा प्रबंधन सहित पूरी प्रक्रिया भारतीय कानून और विश्‍व स्‍तर पर स्‍वीकृत गुणवत्‍ता और पर्यावरण मापदंडों के अनुरूप होगी।

press release

मारुति सुजुकी टोयोट्सू इंडिया द्वारा नोएडा में स्‍थापित संयंत्र पहला है और पूरे भारत में ऐसे अन्‍य संयंत्रों को स्‍थापित किया जाएगा। इस संयंत्र की शुरुआती क्षमता 2,000 वाहन प्रति माह होगी। कंपनी डीलर्स के साथ ही साथ सीधे ग्राहकों से पुराने वाहनों की खरीद करेगी।

MSTI overview

मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्‍टर और सीईओ केनिची अयुकावा ने कहा कि मारुति सुजुकि उपयोगी जीवन के खत्‍म होने के बाद वाहन के जिम्‍मेदार रिसाइकिल के लिए पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है। इस संयुक्‍त उप्रक्रम के जरिये हमारा लक्ष्‍य रिसाइकिल को प्रोत्‍साहित करना और पर्यावरण अनुकूल प्रणालियों और प्रक्रियाओं का उपयोग करते हुए संसाधन को अनुकूल बनाना और उनका संरक्षण करना है।

Write a comment