1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. इक्विटी म्यूचुअल फंड से निवेशकों का पैसा निकालना जारी, सितंबर में 734 करोड़ रुपये की निकासी

इक्विटी म्यूचुअल फंड से निवेशकों का पैसा निकालना जारी, सितंबर में 734 करोड़ रुपये की निकासी

यह लगातार तीसरा महीना रहा जब इक्विटी म्यूचुअल फंड योजनाओं से निवेशकों ने अपने पैसे निकाले हैं। इक्विटी खंड में सर्वाधिक प्रभावित मल्टी कैप फंड रहा। इसमें से 1,114 करोड़ रुपये की निकासी की गयी। उसके बाद लार्ज कैप योजनाओं में से 576 करोड़ रुपये निकाले गये।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: October 08, 2020 17:01 IST
इक्विटी म्युचुअल फंड...- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

इक्विटी म्युचुअल फंड से निवेशकों का पैसा निकालना जारी

नई दिल्ली। इक्विटी म्यूचुअल फंड में सितंबर महीने में 734 करोड़ रुपये की निकासी की गयी है। यह लगातार तीसरा महीना रहा जब इक्विटी म्यूचुअल फंड योजनाओं से निवेशकों ने अपने पैसे निकालने जारी रखे। मुख्य रूप से निवेश राशि मल्टी कैप फंड यानी विभिन्न श्रेणी की कंपनियों में निवेश से जुड़ी योजना से निकाली गयी। एसोसएिशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के बृहस्पतिवार को जारी आंकड़े के अनुसार इसके अलावा निवेशकों ने बांड से जुड़े म्यूचुअल फंड योजना से सितंबर महीने में 51,900 करोड़ रुपये की निकासी की जबकि अगस्त में इससे 3,907 करोड़ रुपये निकाले गये थे। कुल मिलाकर म्यूचुअल फंड उद्योग से विभिन्न श्रेणी की निवेश योजनाओं से पिछले महीने 52,000 करोड़ रुपये से कुछ अधिक राशि निकाली गयी, जबकि अगस्त में 14,533 करोड़ रुपये निकाले गये थे। आंकड़े के अनुसार इक्विटी में निवेश से जुड़ी सदा खुली योजनाओं से सितंबर महीने में 734.40 करोड़ रुपये निकाले गये। जबकि अगस्त और सितंबर में इनसे क्रमश: 4,000 करोड़ रुपये और 2,480 करोड़ रुपये निकाले गये थे। 

इक्विटी म्यूचुअल फंड से चार साल से भी अधिक समय में पहली बार जुलाई में मुनाफावसूली के कारण पैसे निकाले गये। इससे पहले, इक्विटी योजनाओं में जून में 240.55 करोड़ रुपये, मई में 5,256 करोड़ रुपये और अप्रैल में 6,213 करोड़ रुपये निवेश किये गये थे। वहीं मार्च में 11,723 करोड़ रुपये, फरवरी में 10,796 करोड़ रुपये और जनवरी में 7,877 करोड़ रुपये का निवेश किया गया था। इक्विटी खंड में सर्वाधिक प्रभावित मल्टी कैप फंड रहा। इसमें से 1,114 करोड़ रुपये की निकासी की गयी। उसके बाद बड़ी कंपनियों में निवेश से जुड़ी योजना (लार्ज कैप) का स्थान रहा जिसमें से 576 करोड़ रुपये निकाले गये। विशेषज्ञों के अनुसार ऐसा लगता है कि निवेशक सुरक्षित समझे जाने वाली निवेश परिसंपत्ति को तरजीह दे रहे हैं क्योंकि सोने से जुड़े एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) में इस दौरान 597 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। 

Write a comment