1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. सुधारों से बेहतर हुई भारत की व्यापार सुविधा रैंकिंग, निकला फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा, नॉर्वे, फिनलैंड से आगे

सुधारों के चलते बेहतर हुई भारत की व्यापार सुविधा रैंकिंग, निकला फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा, नॉर्वे, फिनलैंड से आगे

143 अर्थव्यवस्थाओं के मूल्यांकन के बाद 2021 के सर्वेक्षण में भारत की स्थिति पारदर्शिता, संस्थागत व्यवस्था एवं सहयोग, कागज रहित व्यापार सहित कई लिहाज से बेहतर हुई।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: July 23, 2021 14:41 IST
India improves ranking in trade facilitation aided by reforms- India TV Paisa
Photo:PTI

India improves ranking in trade facilitation aided by reforms

नई दिल्ली। भारत ने अपनी व्‍यापार सुविधा रैंकिंग में महत्‍वपूर्ण सुधार दर्ज किया है। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBIC) के तहत विशेष रूप से सीमा शुल्क विभाग सहित विभिन्न विभागों द्वारा किए गए सुधारों के कारण भारत की व्यापार सुविधा रैंकिंग बेहतर हुई है। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि डिजिटल एवं टिकाऊ व्यापार सुविधा पर संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक सर्वेक्षण में भारत की स्थिति में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। बयान के मुताबिक भारत ने ताजा सर्वेक्षण में 90.32 प्रतिशत अंक हासिल किए, जबकि इससे पहले 2019 में उसे 78.49 प्रतिशत अंक मिले थे।

यूएनईएससीएपी द्वारा डिजिटल एवं टिकाऊ व्यापार सुविधा पर वैश्विक सर्वेक्षण हर दो साल में किया जाता है। 2021 के सर्वेक्षण में डब्‍ल्‍यूटीओ के व्‍यापार सुविधा समझौता द्वारा कवर किए जाने वाले 58 व्‍यापार सुविधा उपायों के मूल्‍याकंन को शामिल किया गया है। दुनिया भर की 143 अर्थव्यवस्थाओं के मूल्यांकन के बाद 2021 के सर्वेक्षण में भारत की स्थिति पारदर्शिता, संस्थागत व्यवस्था एवं सहयोग, कागज रहित व्यापार सहित कई लिहाज से बेहतर हुई।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि 2021 के दौरान पारदर्शिता में 100 प्रतिशत सुधार हुआ है, 2019 में यह 93.33 प्रतिशत था। औपचारिकताओं में सुधार बढ़कर 95.83 प्रतिशत रहा, जो 2019 में 87.5 प्रतिशत था। संस्‍थागत व्‍यवस्‍था और सहयोग में 88.89 प्रतिशत सुधार रहा, 2019 में यह 66.67 प्रतिशत था। कागज रहित व्‍यापार भी 2021 में 96.3 प्रतिशत सुधार दर्ज किया गया, जो 2019 में 81.48 प्रतिशत था। क्रॉस-बॉर्डर पेपरलेस ट्रेड में सुधार 66.67 प्रतिशत रहा, जो 2019 में 55.56 प्रतिशत था।   

सर्वेक्षण में कहा गया कि दक्षिण एवं दक्षिण पश्चिम एशिया क्षेत्र और एशिया प्रशांत क्षेत्र की तुलना में भारत का प्रदर्शन बेहतर रहा। बयान में कहा गया कि भारत की रैंकिंग फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा, नॉर्वे, फिनलैंड आदि कई ओईसीडी देशों से बेहतर पाई गई।

केंद्रीय अप्रत्‍यक्ष कर बोर्ड और कस्‍टम प्रभावी सुधार करने में सबसे आगे रहा। इससे डिजिटल एंड संस्‍टैनेबल ट्रेड फेसिलिटेशन पर यूएनईएससीएपी की रैकिंग में सुधार पर प्रत्‍यक्ष असर पड़ा है। कोविड-19 महामारी के दौरान, कस्‍टम डिपार्टमेंट ने ऑक्‍सीजन संबंधी उपकरणों, जीवन रक्षक दवाओं और टीकों के त्‍वरित एवं तेज आयात के लिए हर संभव प्रयास किए। वित्‍त मंत्रालय ने कहा कि आयातकों के सामने आने वाले मुद्दों के त्‍वरित समाधान के लिए सीबीआईसी वेबसाइट पर एक्जिम ट्रेड के लिए एक डेडीकेटेड सिंगल विंडो कोविड-19 24X7 हेल्‍पडेस्‍क की शुरुआत की गई है।

यह भी पढ़ें: Bharti Airtel और Vodafone Idea को लगा जोर का झटका...

यह भी पढ़ें: कोविड-19 वैक्‍सीन के बाद अब अदार पूनावाला देशवासियों को देंगे सस्‍ता लोन

यह भी पढ़ें: Airtel ने दिया अपने उपभोक्‍ताओं को मॉनसून का तोहफा, कम पैसे में मिलेगा अब ज्‍यादा डेटा

यह भी पढ़ें: अमेरिका ने भारत को बताया चुनौतीपूर्ण जगह, साथ में दिया सुझाव

Write a comment
Click Mania