ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Indian Oil ने जताई संभावना, भारत की डीजल मांग दिवाली तक पहुंच जाएगी कोविड पूर्व स्‍तर पर

Indian Oil ने जताई संभावना, भारत की डीजल मांग दिवाली तक पहुंच जाएगी कोविड पूर्व स्‍तर पर

2040 तक भारत की ईंधन मांग बढ़कर 40-45 करोड़ टन प्रति वर्ष हो जाएगी, जो वर्तमान में 25 करोड़ टन है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: August 27, 2021 14:49 IST
Indian Oil expects diesel demand to hit pre-covid levels by Diwali 2021- India TV Paisa
Photo:PTI

Indian Oil expects diesel demand to hit pre-covid levels by Diwali 2021

नई दिल्‍ली। देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (Indian Oil Corporation) ने संभावना जताई है कि भारत की डीजल खपत इस साल दिवाली तक अपने कोविड पूर्व स्‍तर पर पहुंच जाएगी। कंपनी की 62वीं वार्षिक आम सभा में आईओसी के चेयरमैन श्रीकांत माधव वैद्य ने इस संभावना को व्‍यक्‍त किया। घरेलू बाजार में 32 प्रतिशत हिस्‍सेदारी के साथ आईओसी भारत की सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी कंपनी है।

वैद्य ने कहा कि कुल मांग में सुधार के साथ, रिफाइनिंग और अन्‍य संबंधित परिचालन मानकों ने पिछले साल की तुलना में अधिक स्‍पष्‍ट बदलाव का प्रदर्शन किया है। चालू वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही में इंडियन ऑयल ने 88.6 प्रश्तिात की रिफाइनिंग क्षमता हासिल की है, जो वित्‍त वर्श 2020-21 की पहली तिमाही में 68.5 प्रतिशत थी। उन्‍होंने कहा कि देश में पेट्रोल की मांग पहले ही कोविड-पूर्व स्‍तर को पार कर चुकी है। डीजल की मांग अगले 2-3 महीने में कोविड-पूर्व स्‍तर पर पहुंच जाएगी।

रेटिंग एजेंसी इक्रा के मुताबिक वित्‍त वर्ष 2021-22 में देश का पेट्रोल और डीजल उपभोग क्रमश: 14 प्रतिशत और 10 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है। आईओसी ने अपनी मौजूना 8.02 करोड़ टन प्रति वर्ष क्षमता में अतिरिक्‍त 2.5 करोड़ टन क्षमता को जोड़ने की योजना बनाई है।

कुल 24.936 करोड़ टन प्रति वर्श की स्‍थापित क्षमता के साथ भारत एशिया का एक प्रमुख रिफाइनिंग केंद्र है। भारत में 23 रिफाइनरियां हैं और 2025 तक रिफाइनिंग क्षमता बढ़ाकर 40 करोड़ टन प्रति वर्ष करने की योजना है।  

भारत के ऊर्जा भविष्‍य और इससे जुड़े अवसरों के बारे में बोलते हुए वैद्य ने कहा कि 2040 तक भारत की ईंधन मांग बढ़कर 40-45 करोड़ टन प्रति वर्ष हो जाएगी, जो वर्तमान में 25 करोड़ टन है। इससे सभी तरह की ऊर्जा को एक साथ उपयोग के पर्याप्‍त अवसर मिलेंगे। इस बढ़ती हुई मांग को पूरा करने के लिए हम अक्रामक तरीके से नई परियोजनाओं की शुरुआत कर रहे हैं। आईओसी ने अगले 4 से 5 साल के दोरान एक लाख करोड़ रुपये का निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई है।

वैद्य ने बताया कि इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन अपने पेट्रोकेमिकल बिजनेस के विस्‍तार पर ध्‍यान केंद्रित कर रही है। आईओसी इसके लिए रूस की सबसे बड़ी एकीकृत पेट्रो‍केमिकल कंपनी पीजेएससी सिबूर होल्डिंग के साथ भारत में एक बड़ा पेट्रोकेमिकल प्‍लांट लगाने के लिए भागीदारी पर बातचीत चल रही है।

यह भी पढ़ें: EV को बढ़ावा देने बिजली मंत्रालय ने उठाया बड़ा कदम, केंद्रीय मंत्रियों और सभी CM को लिखा पत्र

यह भी पढ़ें: इस बार स्‍मार्ट टीवी खरीदने से नहीं रुक पाएंगे आप, Xiaomi ने 5X सीरीज में लॉन्‍च किए 3 नए Mi TV

यह भी पढ़ें: Tata Motors ने किया कमाल, जानकर आपको भी होगा गर्व

यह भी पढ़ें: सरकार ने जताया किसानों पर भरोसा, कहा भारत बन सकता है सभी कृषि जिंसों के उत्‍पादन में अव्‍वल

Write a comment
elections-2022