1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. RailYatri की इंटरसिटी बस सर्विस ने जुटाए 100 करोड़ रुपए, नंदन नीलेकणी सहित कई निवेशकों ने किया निवेश

RailYatri की इंटरसिटी बस सर्विस ने जुटाए 100 करोड़ रुपए, नंदन नीलेकणी सहित कई निवेशकों ने किया निवेश

स्टेलिंग टेक्नोलॉजीज द्वारा संचालित रेलयात्री का नाम बदलकर इंटरसिटी बाई रेलयात्री कर दिया गया है और यह दो उपभोक्ता ब्रांड इंटरसिटी स्मार्टबस और रेलयात्री का परिचालन करती है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: February 24, 2020 15:38 IST
IntrCity by RailYatri raises over Rs 100 cr from Nandan Nilekani, others- India TV Paisa

IntrCity by RailYatri raises over Rs 100 cr from Nandan Nilekani, others

नई दिल्‍ली। रेलयात्री की बस सर्विस इकाई इंटरसिटी ने सोमवार को बताया कि उसने इंफोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणी के नेतृत्‍व वाले निवेशक समूह से 100 करोड़ रुपए की राशि हासिल की है। इस निवेश चरण में सैमसंग वेंचर इनवेस्‍टमेंट ने भी रणनीतिक निवेशक के तौर पर भागीदारी की। कंपनी ने बयान में कहा कि मौजूदा निवेशकों ओमिदयार नेटवर्क और ब्‍लूम वेंचर्स ने भी इसमें हिस्‍सा लिया। उल्‍लेखनीय है कि नीलेकणी कंपनी में मौजूदा निवेशक भी हैं।

इंटरसिटी मोबिलिटी स्‍टार्टअप अब तक कुल 3 करोड़ डॉलर (215 करोड़ रुपए) जुटा चुकी है। इंटरसिटी बाई रेलयात्री के सीईओ और सह-संस्‍थापक मनीष राठी ने कहा कि ताजा निवेश हमारे इंटरसिटी स्‍मार्टबस नेटवर्क को और विस्‍तार देने एवं हमारे टेक्‍ प्‍लेटफॉर्म को अधिक मजबूत बनाने में मदद करेगा।

उन्‍होंने आगे कहा कि कपंनी अपनी अगले कुछ महीनों में स्‍मार्टबस बेड़े का विस्‍तार कर इसे 300 तक पहुंचाएगी, जो अभी 84 है। कंपनी का लक्ष्‍य 2022 तक 2000 स्‍मार्टबस को अपने नेटवर्क से जोड़ने का है।

स्‍टेलिंग टेक्‍नोलॉजीज द्वारा संचालित रेलयात्री का नाम बदलकर इंटरसिटी बाई रेलयात्री कर दिया गया है और यह दो उपभोक्‍ता ब्रांड इंटरसिटी स्‍मार्टबस और रेलयात्री का परि‍चालन करती है। वर्तमान में कंपनी 18 शहरों के बीच 65 गंतव्‍यों के लिए 84 इंटरसिटी स्‍मार्टबस का संचालन कर रही है और प्रति माह लगभग चार लाख यात्रियों को अपनी सेवाएं दे रही है।

इंटरसिटी बाई रेलयात्री के सह-संस्‍थापक कपिल रायजादा ने कहा कि हमनें पिछले साल 500 प्रतिशत की विकास दर हासिल की है और हमारी पूरी विकास लागत आंतरिक राजस्‍व से पूरी हो रही है हमारा अनुमान है कि अगले लगातार तीन वर्षों में हम 300 प्रतिशत की वृद्धि हासिल करेंगे।

Write a comment
X