ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कितनी प्रभावी है फाइजर और मॉडर्ना की वैक्सीन, सामने आई स्टडी

डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कितनी प्रभावी है फाइजर और मॉडर्ना की वैक्सीन, सामने आई स्टडी

शोध में शामिल विशेषज्ञों के अनुसार, हालांकि, टीके अभी भी अस्पताल में भर्ती होने और वायरस से गंभीर मामलों को रोकने में प्रभावी हैं और दोनों के साथ अस्पताल में भर्ती होने की दर 25 प्रतिशत से कम है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: August 12, 2021 17:57 IST
- India TV Paisa
Photo:PTI

वैक्सीनेशन से कोविड की गंभीरता को कम करने में मदद

नई दिल्ली। अमेरिकी दवा कंपनी फाइजर और मॉडर्ना द्वारा विकसित कोविड-19 के खिलाफ वैक्सीन डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले उतनी प्रभावी नहीं हैं, जितनी कि वे वायरस के मूल स्ट्रेन के खिलाफ हैं। एक नए अध्ययन से यह पता चला है। डेली मेल ने अपनी हालिया रिपोर्ट में बताया है कि अमेरिका के मिनेसोटा में मेयो क्लिनिक के शोधकतार्ओं ने पाया कि Pfizer-BioNTech वैक्सीन जुलाई में संक्रमण के खिलाफ केवल 42 प्रतिशत प्रभावी पाई गई, जबकि मॉडर्ना वैक्सीन केवल 76 प्रतिशत प्रभावी रही।

कितनी प्रभावी है वैक्सीन

प्री-प्रिंटर सर्वर medRxiv.org पर प्रकाशित इस स्टडी में जिसकी अभी तक समीक्षा नहीं की गई है, शोधकतार्ओं ने लिखा है, कई राज्यों (मिनेसोटा, विस्कॉन्सिन, एरिजोना, फ्लोरिडा और आयोवा) में मेयो क्लिनिक हेल्थ सिस्टम साइटों पर एमआरएनए -1273 (मॉडर्ना कोविड वैक्सीन) बनाम बीएनटी 162बी 2 (फाइजर कोविड वैक्सीन) के साथ पूरी तरह से टीकाकरण किए गए व्यक्तियों के बीच संक्रमण की दर की तुलना की गई तो एमआरएनए - 1273 ने बीएनटी 162बी 2 की तुलना में संक्रमण के खिलाफ जोखिम में दो गुना कमी दर्ज की है।

डेल्टा के प्रसार के साथ घटा प्रभाव
अध्ययन के लिए, टीम ने जनवरी से जुलाई तक मिनेसोटा में रहने वाले 25,000 से अधिक लोगों से जुड़े आंकड़ों को एकत्र किया। जैसा कि दावा किया गया है, जनवरी से जून तक टीके लगभग 90 प्रतिशत प्रभावी रहे, लेकिन जून में इसमें गिरावट शुरू हुई और जुलाई में बड़े पैमाने पर गिरावट देखी गई, क्योंकि तब तक इस वैरिएंट ने अमेरिका में पकड़ बना ली थी। अध्ययन से पता चला है कि वैक्सीन प्रभावशीलता में परिवर्तन मिनेसोटा में डेल्टा वैरिएंट के प्रसार में भारी वृद्धि के साथ मेल खाता है, जो मई में 0.7 प्रतिशत से बढ़कर जुलाई में 70 प्रतिशत से अधिक हो गया है। इस बीच, अल्फा वैरिएंट, जो कि अमेरिका में पिछला एक प्रमुख स्ट्रेन रहा है, इसी समान समय अवधि में इसके प्रसार में 85 प्रतिशत से 13 प्रतिशत तक कमी देखी गई है।

कम प्रभावी होने के बावजूद टीके मामलों की गंभीरता कम करने में सक्षम 
अमेरिका वर्तमान में डेल्टा वैरिएंट के कारण संक्रमण और मृत्यु में वृद्धि देख रहा है। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, गुरुवार सुबह तक, अमेरिका में कुल मामलों और मरने वालों की संख्या क्रमश: 36,185,761 और 618,454 दर्ज की गई है। आने वाले हफ्तों में इसके और बढ़ने का अनुमान है। शोध में शामिल विशेषज्ञों के अनुसार, हालांकि, टीके अभी भी अस्पताल में भर्ती होने और वायरस से गंभीर मामलों को रोकने में प्रभावी हैं और दोनों के साथ अस्पताल में भर्ती होने की दर 25 प्रतिशत से कम है। पिछले महीने, फाइजर ने डेटा प्रकाशित किया था, जिसमें दिखाया गया था कि इसके टीके की प्रभावकारिता छह महीने के बाद 86 प्रतिशत तक गिर जाती है। लेकिन बूस्टर शॉट्स, जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है, जो कि वायरस के प्रति प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और अधिक प्रतिरोधी वेरिएंट से बचाने में मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली से जयपुर, चंडीगढ़ 2 घंटे से भी कम में, जानिये तेज रफ्तार सफर के लिये सरकार की योजना

यह भी पढ़ें: PwC इंडिया देगी 10 हजार नौकरियां, जानिये कहां और किसे मिलेंगे अवसर

Write a comment
elections-2022