1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Lockdown से ऑटो इंडस्‍ट्री को हुआ रोज 2300 करोड़ रुपये का नुकसान, 3.45 लाख नौकरियां हुईं खत्‍म

Lockdown की वजह से ऑटो इंडस्‍ट्री को हुआ प्रतिदिन 2300 करोड़ रुपये का नुकसान, 3.45 लाख नौकरियां हुईं खत्‍म

रिपोर्ट के अनुसार वाहन उद्योग क्षेत्र में नियुक्तियां लगभग रूकी हुई हैं। इसके अलावा 286 वाहन डीलरों की दुकानें बंद हो गई हैं।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: December 16, 2020 10:08 IST
Parliamentary panel reports automotive industry suffered Rs 2,300 crore loss per day in lockdown- India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

Parliamentary panel reports automotive industry suffered Rs 2,300 crore loss per day in lockdown

नई दिल्‍ली। संसद की एक समिति ने कहा है कि कोविड-19 महामारी और उसकी रोकथाम के लिए देश में लगाए गए लॉकडाउन की वजह से वाहन उद्योग को प्रतिदिन 2,300 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ और क्षेत्र में करीब 3.45 लाख लोगों की नौकरियां जाने का अंदेशा है। समिति ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू को सौंपी।

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) सांसद केशव राव की अध्यक्षता वाली वाणिज्य पर संसद की स्थायी समिति ने वाहन क्षेत्र में निवेश आकर्षित करने के लिए कुछ उपायों का भी सुझाव दिया है। इसमें मौजूदा भूमि और श्रम कानूनों में बदलाव शामिल हैं। समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि समिति को वाहन उद्योग के संठनों ने सूचित किया कि सभी प्रमुख मूल कलपुर्जे, उपकरण विनिर्माताओं (ओईएम) ने कम उत्पादन और वाहनों की बिक्री कम होने से अपने उत्पादन में 18 से 20 प्रतिशत की कमी की है। इससे वाहन क्षेत्र में रोजगार की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा और क्षेत्र में करीब 3.45 लाख रोजगार के नुकसान का अनुमान लगाया गया है।

यह भी पढ़ें: किसानों के आंदोलन से रोज हो रहा है 3,500 करोड़ रुपये का नुकसान, Assocham ने किया दावा

रिपोर्ट के अनुसार वाहन उद्योग क्षेत्र में नियुक्तियां लगभग रूकी हुई हैं। इसके अलावा 286 वाहन डीलरों की दुकानें बंद हो गई हैं। उत्पादन में कटौती का कल-पुर्जे बनाने वाले उद्योग पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इससे सर्वाधिक असर उन सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यमों (एमएसएमई) पर पड़ा है, जो वाहन के उपकरण बनाने के काम में लगे थे।

समिति ने कहा कि वाहन उद्योग संगठनों की सूचना के अनुसार कोविड-19 महामारी और उसकी रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन से वाहन ओईएम में उत्पादन रुक गया। इससे वाहन क्षेत्र को प्रतिदिन करीब 2,300 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। संसद की समिति ने यह भी कहा कि वास्तविक प्रभाव इस बात पर निर्भर करता है कि लॉकडाउन की अवधि कब तक रहती है और कोविड-19 संकट की स्थिति कैसी रहती है।

यह भी पढ़ें:  Petrol-Diesel भरवाने पर अब मिलेगा कैशबैक, SBI Card और BPCL ने मिलकर लॉन्‍च किया अनोखा क्रेडिट कार्ड

रिपोर्ट के अनुसार संकट को देखते हुए यह आशंका है कि वाहन उद्योग में कम-से-कम दो साल बड़ी गिरावट रह सकती है। इससे क्षमता का कम उपयोग होगा, पूंजी व्यय कम होगा, कंपनियों के दिवालिया होने तथा पूरे वाहन क्षेत्र में नौकरियों पर प्रतिकूल असर रहने की आशंका है। 

Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X