1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं, चालू तिमाही में ग्रोथ 0.1% रहने का अनुमान

ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं, चालू तिमाही में ग्रोथ 0.1% रहने का अनुमान

रेपो रेट 4 प्रतिशत है जबकि रिवर्स रेपो रेट 3.35 प्रतिशत और मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (MSF) की दर 4.25 प्रतिशत है। इसके अलावै CRR 3 प्रतिशत और SLR की दर 18 प्रतिशत है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: December 04, 2020 10:40 IST
रिजर्व बैंक (RBI) गवर्नर...- India TV Paisa
Photo:RBI

रिजर्व बैंक (RBI) गवर्नर शक्तिकांत दास

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ने पॉलिसी दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है और इसके बाद फिलहाल बैंकों की तरफ से भी ब्याज दरों में कोई बदलाव होने की संभावना कम है। आज भारतीय रिजर्व बैंक पॉलिसी दरों को लेकर अपना फैसला सुनाया है जिसमें मुख्य पॉलिसी दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। फिलहाल देश में रेपो रेट 4 प्रतिशत है जबकि रिवर्स रेपो रेट 3.35 प्रतिशत और मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (MSF) की दर 4.25 प्रतिशत है। इसके अलावै CRR 3 प्रतिशत और SLR की दर 18 प्रतिशत है। 

रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास ने अर्थव्यवस्था में ग्रोथ की उम्मीद भी जताई है और कहा है कि मौजूदा वित्त वर्ष 2020-21 की चालू तीसरी तिमाही के दौरान देश में आर्थिक विकास की दर निगेटिव से उठकर पॉजिटिव श्रेणी में आ सकती है, तीसरी तिमाही में रिजर्व बैंक ने विकास की दर 0.1 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है और चौथी तिमाही में विकास की दर 0.7 प्रतिशत रहने का अनुमान है। पूरे वित्त वर्ष 2020-21 में विकास की दर निगेटिव 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है। 

रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास के मुताबिक चालू तिमाही के दौरान देश में उपभोक्ता महंगाई दर 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है और चौथी तिमाही के दौरान महंगाई दर 5.8 प्रतिशत अनुमानित है। रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा कि रिजर्व बैंक सुनिश्चित करेगा कि अर्थव्यवस्था में पर्याप्त नकदी उपलब्ध हो, जरूरत पड़ने पर आवश्यक कदम उठाएंगे। रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा कि चालू वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही के दौरान ही अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने के संकेत दिखना शुरू हो गए थे। 

 

Write a comment