1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. खुदरा महंगाई दर बढ़कर 5 प्रतिशत के पार हुई, खाद्य कीमतों में बढ़त का असर

खुदरा महंगाई दर बढ़कर 5 प्रतिशत के पार हुई, खाद्य कीमतों में बढ़त का असर

खुदरा खाद्य महंगाई दर फरवरी के दौरान 3.87 प्रतिशत के स्तर पर रही है जो कि जनवरी में 1.96 प्रतिशत के स्तर पर थी। फरवरी में ग्रामीण क्षेत्रों में दर 2.89 प्रतिशत पर और शहरी इलाकों में खाद्य महंगाई दर 5.63 प्रतिशत पर रही थी।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: March 12, 2021 18:28 IST
खुदरा महंगाई दर में...- India TV Hindi News
Photo:PTI

खुदरा महंगाई दर में बढ़त

नई दिल्ली। फरवरी के महीने में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 5.03 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई है। जनवरी के दौरान ये आंकड़ा 4.06 प्रतिशत पर था। महंगाई दर में बढ़त खाद्य कीमतों में आई तेजी की वजह से देखने को मिली है। 

क्या रही खाद्य महंगाई दर

सरकार के द्वारा आज जारी हुए आंकड़ों के मुताबिक खुदरा खाद्य महंगाई दर (Consumer Food Price Index) फरवरी के दौरान 3.87 प्रतिशत के स्तर पर रहा है जो कि जनवरी में 1.96 प्रतिशत के स्तर पर था। फरवरी में ग्रामीण क्षेत्रों में दर 2.89 प्रतिशत रही, जोकि जनवरी में 1.11 प्रतिशत के स्तर पर थी। वहीं फरवरी के दौरान शहरी इलाकों में खाद्य महंगाई दर 5.63 प्रतिशत पर रही जो कि फरवरी में 3.36 प्रतिशत पर थी। वहीं बीते साल के मुकाबले मीट, अंडे, दूध, तेल, फल, दाल, मसालों की कीमत में बढ़त देखने को मिली है। वहीं सब्जियां, चीनी, सस्ते हुए हैं।

क्या पड़ेगा महंगाई दर में बढ़त का असर

रिजर्व बैंक अपनी नीतियों के लिए खुदरा महंगाई दर पर नजर रखता है। महंगाई दर अगर काफी बढ़ी तो बैंक सिस्टम से नकदी कम करने की कोशिश करता है, जिसका मतलब सस्ते कर्ज का दौर खत्म होना। वहीं महंगाई दर घटने पर बैंक  के पास दरों में कमी की जगह बन जाती है। फिलहाल रिजर्व बैंक ने खुदरा महंगाई दर को 4 प्रतिशत पर रखने का लक्ष्य रखा है। इससे 2 प्रतिशत ऊपर और 2 प्रतिशत नीचे की सीमा को संतोषजनक स्थिति माना है। यानि रिजर्व बैंक खुदरा महंगाई दर को 2 से 6 प्रतिशत के बीच ही रखने का लक्ष्य लेकर चल रहा है। जनवरी महीने में खुदरा महंगाई दर अक्टूबर 2019 के बाद से सबसे निचले स्तरों पर पहुंच गई थी।

Latest Business News

Write a comment