1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कॉरपोरेट टैक्स बढ़ने से कंपनियां छोड़ेंगी अमेरिका? बाइडन ने दिया ये जवाब

कॉरपोरेट टैक्स बढ़ने से कंपनियां छोड़ेंगी अमेरिका? बाइडन ने दिया ये जवाब

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने विश्वास जताया है कि कॉरपोरेट कर की दरों में बढ़ोतरी के प्रस्ताव से कंपनियां देश से बाहर नहीं जाएंगी।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 06, 2021 16:10 IST
US President Joe Biden confident that higher corporate tax will not drive companies out of US कॉरपोर- India TV Paisa
Photo:AP

कॉरपोरेट टैक्स बढ़ने से कंपनियां छोड़ेंगी अमेरिका? बाइडन ने दिया ये जवाब 

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने विश्वास जताया है कि कॉरपोरेट कर की दरों में बढ़ोतरी के प्रस्ताव से कंपनियां देश से बाहर नहीं जाएंगी। व्हाइस हाउस में सोमवार को संवाददाताओं से बातचीत में बाइडन ने यह बात कही। बाइडन ने कहा कि उनके कॉरपोरेट कर की दरें बढ़ाने के प्रस्ताव से कंपनियां अमेरिका छोड़कर नहीं जाएंगी। उन्होंने कहा, ‘‘कर की दर 36 प्रतिशत थी। अब यह घटकर 21 प्रतिशत रह गई है। अब हम 28 प्रतिशत कर की बात कर रहे हैं। सभी का मानना है कि कर यह दर सबके लिए उपयुक्त है। 

पढें-  नया डेबिट कार्ड मिलते ही करें ये काम! नहीं तो हो जाएगा नुकसान

पढें-  दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों की प्राइज लिस्ट, ​जानिए कितने में मिलेगी कार और बाइक

एक सवाल के जवाब में बाइडन ने कहा, ‘‘फॉर्च्यून 500 की 51 या 52 कंपनियों ने तीन साल में कर के रूप में एक पैसा नहीं दिया है। आप इस चीज को समझें।’’ अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह परिस्थितियों में बदलाव का पूरा प्रयास करेंगे जिससे अमेरिका शेष दुनिया से प्रतिस्पर्धा कर सकेगा। बाइडन ने कहा, ‘‘दुनियाभर में सभी देश बुनियादी ढांचे में अरबों-अरबों डॉलर का निवेश कर रहे हैं। हम यही काम यहां करेंगे।’’ 

पढें-  Aadhaar के बिना हो जाएंगे ये काम, सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर जरूरत को किया खत्म

पढें-  बैंक के OTP के नाम हो रहा है फ्रॉड, खाली हो सकता है अकाउंट, ऐसे रहे सावधान

इस बीच, अमेरिका वित्त मंत्री जैनेट येलेन ने कहा है कि कर प्रतिस्पर्धा के दबाव को कम करने और कॉरपोरेट कर में कमी से बचने के लिए अन्य देशों के साथ मिलकर काम करने की जरूरत है। येलेन ने कहा, ‘‘हम जी20 के देशों के साथ काम कर रहे हैं, जिससे वैश्विक स्तर पर न्यूनतम कॉरपोरेट कर की दर पर सहमति बनाई जा सके और इस ‘दौड़’ को रोका जा सके। 

Write a comment
X