1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Power Crisis: भीषण गर्मी के बीच बिजली संकट से मचा हाहाकार! कश्मीर से कन्याकुमारी तक 8-8 घंटे कटौती की मार

Power Crisis: भीषण गर्मी के बीच बिजली संकट से देश भर में मचा हाहाकार! कश्मीर से कन्याकुमारी तक 8-8 घंटे कटौती की मार

बिजली कटौती इस समय राष्ट्रीय समस्या बन चुकी है। जम्मू-कश्मीर से लेकर आंध्र प्रदेश तक उपभोक्ताओं को दो घंटे से आठ घंटे तक की बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: April 28, 2022 19:53 IST
Power Crisis- India TV Paisa
Photo:PIXABAY

Power Crisis

Highlights

  • शहरी से ग्रामीण इलाकों में बिजली की डिमांड और सप्लाई का अंतर बढ़ा
  • उपभोक्ताओं का दो घंटे से आठ घंटे तक की बिजली कटौती का सामना
  • घरेलू ग्राहक ही नहीं, बल्कि बिजली कटौती से कारखाने सबसे ज्यादा प्रभावित

Power Crisis: देश में भीषण गर्मी का दौर जारी है। दूसरी और पावर प्लांट के पास कोयले की जबर्दस्त किल्लत के चलते देश के कई राज्यों में बिजली संकट गहरा गया है। बिजली संयंत्रों में कम उत्पादन होने से शहरी से ग्रामीण इलाकों में बिजली की डिमांड और सप्लाई का अंतर बढ़ गया है। ऐसे में लगभग सभी राज्यों की डिस्कॉम सर्वमान्य फॉर्मूले यानि बिजली कटौती को लागू कर चुकी हैं। 

बिजली कटौती इस समय राष्ट्रीय समस्या बन चुकी है। जम्मू-कश्मीर से लेकर आंध्र प्रदेश तक उपभोक्ताओं को दो घंटे से आठ घंटे तक की बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है। घरेलू ग्राहक ही नहीं, बल्कि बिजली कटौती से कारखाने सबसे ज्यादा प्रभावित हैं।

गर्मी बढ़ते ही बढ़ी बिजली की मांग 

देश में मार्च में रिकॉर्ड गर्मी के बाद अप्रैल में भी अत्यधिक गर्मी जारी है। ऐसे में बिजली की मांग अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। देश में बिजली की कुल कमी 62.3 करोड़ यूनिट तक पहुंच गई है। यह आंकड़ा मार्च में कुल बिजली की कमी से अधिक है।

कोयले की किल्लत ने दिया करंट 

इस संकट के केंद्र में कोयले की कमी है। देश में कोयले से 70 प्रतिशत बिजली का उत्पादन होता है। सरकार दावा कर रही है कि मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त कोयला उपलब्ध है, लेकिन बिजली संयंत्रों में कोयले का भंडार नौ वर्षों में सबसे कम हैं। इसके अलावा यूक्रेन-रूस युद्ध के कारण अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा कीमतों में बढ़ोतरी के साथ कोयले के आयात में गिरावट आई है।

देश भर में एक जैसा मर्ज 

ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन (एआईपीईएफ) ने कहा कि देशभर के ताप संयंत्र कोयले की कमी से जूझ रहे हैं, जो देश में बिजली संकट का संकेत है। देश में 27 अप्रैल को बिजली की अधिकतम मांग 200.65 गीगावॉट रही, जबकि व्यस्त समय में बिजली की कमी 10.29 गीगावॉट थी। ताजा आंकड़ों से पता चला है कि केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) की निगरानी वाले 147 संयंत्रों में 26 अप्रैल को कोयला भंडार मानक का 25 प्रतिशत था।

यूपी की हालत सबसे खराब

भारत में सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में 3,000 मेगावॉट बिजली की कमी है। लगभग 23,000 मेगावॉट की मांग के मुकाबले आपूर्ति सिर्फ 20,000 मेगावॉट है। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों और छोटे शहरों में बिजली कटौती की जा रही है।

कश्मीर में भी बिजली गुल

कश्मीर घाटी अपने सबसे बुरे बिजली संकट का सामना कर रही है। यहां रमजान के पवित्र महीने में लंबे समय तक कटौती ने लोगों को परेशान कर दिया है। बिजली विभाग के अधिकारियों ने कहा कि अप्रैल में आपूर्ति लगभग 900 से 1,100 मेगावॉट थी, जबकि मांग 1,600 मेगावॉट थी।

तमिलनाडु से आंध्र तक एक जैसे हाल

तमिलनाडु में राज्य सरकार ने कहा कि केंद्रीय ग्रिड से 750 मेगावॉट की कमी के कारण राज्य के कुछ हिस्सों में बिजली कटौती हुई। आंध्र प्रदेश को मांग के मुकाबले लगभग पांच करोड़ यूनिट बिजली की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

पंजाब में बढ़ा विरोध 

पंजाब के होशियारपुर में अनियमित बिजली आपूर्ति के विरोध में किसानों ने वाहनों की आवाजाही रोक दी। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्वीकार किया कि राज्य मांग को पूरा करने में सक्षम नहीं है और बाजार से बिजली खरीदने के लिए अतिरिक्त धन उपलब्ध कराया गया है।

राजस्थान में 5 से 7 घंटे कटौती

ओडिशा सरकार ने दावा किया कि अप्रैल के अंत तक राज्य में बिजली संकट खत्म हो जाएगा। राज्य में बड़ी आबादी ने गर्मी के बीच बिजली कटौती की शिकायत की है। बिहार और उत्तराखंड में भी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में लगातार बिजली कटौती हो रही है। राजस्थान में बिजली की मांग में 31 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जिससे प्रतिदिन पांच से सात घंटे बिजली की कटौती की जा रही है।

Write a comment
erussia-ukraine-news