Friday, May 24, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. सरकार ने टमाटर और दालों को लेकर दी ये बड़ी खुशखबरी, जानिए कब तक आम लोगों को झुलसाएगी महंगाई की आग?

सरकार ने टमाटर और दालों को लेकर दी ये बड़ी खुशखबरी, जानिए कब तक आम लोगों को झुलसाएगी महंगाई की आग?

मंत्रालय ने जुलाई महीने की अपनी मासिक आर्थिक समीक्षा में कहा कि आगे चलकर घरेलू खपत तथा निवेश की मांग से वृद्धि जारी रहने की उम्मीद है।

Written By: Sachin Chaturvedi @sachinbakul
Updated on: August 22, 2023 22:34 IST
tomato- India TV Paisa
Photo:PTI Tomato

देश में सब्जियों से लेकर दालों की कीमत को लेकर परेशान करने वाली खबरें आ रही हैं। बीते 2 महीनों से टमाटर की कीमतें 100 रुपये के पार हैं, वहीं दालें भी अब डबल सेंचुरी की ओर बढ़ रही हैं। आम लोग कीमतों को लेकर हलाकान हैं। इस बीच सरकार ने राहत भरी खबर दी है। वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि टमाटर एवं दालों के दाम नरम होने से खाद्य पदार्थों की कीमतों पर दबाव अब केवल कुछ ही समय तक रहने की संभावना है। हालांकि, सरकार और रिजर्व बैंक को बढ़ते मुद्रास्फीतिकारी दबावों से निपटने के लिए अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। 

सरकार ने जारी की मासिक रिपोर्ट 

मंत्रालय ने जुलाई महीने की अपनी मासिक आर्थिक समीक्षा में कहा कि आगे चलकर घरेलू खपत तथा निवेश की मांग से वृद्धि जारी रहने की उम्मीद है। चालू वित्त वर्ष में सरकार द्वारा पूंजीगत व्यय के लिए प्रावधान बढ़ाने से अब निजी निवेश में बढ़ोतरी हो रही है। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित खुदरा मुद्रास्फीति जुलाई, 2023 में 15 माह के उच्चतम स्तर 7.44 प्रतिशत पर पहुंच गई। हालांकि, कोर इंफ्लेशन 39 महीनों के निचले स्तर 4.9 प्रतिशत पर रही। 

सता रही है अनाज और सब्जियों की महंगाई 

मंत्रालय ने कहा कि अनाज, दालों और सब्जियों की कीमत में जुलाई में पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में दोहरे अंक की वृद्धि देखी गई। घरेलू उत्पादन में व्यवधान ने भी मुद्रास्फीति पर दबाव बढ़ा दिया। मासिक आर्थिक समीक्षा के अनुसार, ‘‘सरकार ने खाद्य मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए पहले से ही एहतियाती कदम उठाए हैं, जिससे ताजा भंडार की आवक के साथ बाजार में कीमतों का दबाव जल्द ही कम होने की संभावना है। खाद्य पदार्थों में कीमतों में तेजी अस्थायी रहने की उम्मीद है।’’ 

महंगाई पर पड़ेगा विदेशी प्रभाव 

वैश्विक अनिश्चितता तथा घरेलू व्यवधान आने वाले महीनों में मुद्रास्फीतिक दबाव को बढ़ा सकते हैं, जिसके लिए सरकार तथा भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है। मंत्रालय ने कहा कि टमाटर, हरी मिर्च, अदरक और लहसुन जैसी वस्तुओं की कीमतें 50 प्रतिशत से अधिक बढ़ीं। इसलिए कुछ विशिष्ट वस्तुओं की कीमतों में असामान्य वृद्धि के कारण जुलाई, 2023 में खाद्य मुद्रास्फीति ऊंची रही। 

अगस्त के अंत तक आएगी टमाटर की नई फसल 

वित्त मंत्रालय ने कहा, ‘‘टमाटर की नई खेप अगस्त के अंत या सितंबर की शुरुआत तक बाजार में आने से इसकी कीमतें कम होने की उम्मीद है। इसके अलावा अरहर दाल का आयात बढ़ने से दालों की कीमतें भी नरम होने की संभावना है। इसके साथ हाल के सरकारी प्रयासों से आने वाले महीनों में खाद्य मुद्रास्फीति जल्द ही कम हो सकती है।’’ मंत्रालय के मुताबिक, घरेलू खपत और निवेश मांग से वृद्धि की रफ्तार कायम रहने की उम्मीद है। हालांकि, वैश्विक एवं क्षेत्रीय अनिश्चितताओं और घरेलू गतिरोधों के चलते आने वाले महीनों में मुद्रास्फीतिक दबाव बढ़ सकता है। ऐसी स्थिति में सरकार और केंद्रीय बैंक दोनों को ही अधिक सजग रहने की जरूरत होगी। 

रिजर्व बैंक भी जता चुका है अशंका 

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति ने अगस्त की शुरुआत में हुई बैठक में नीतिगत रेपो दर को 6.5 प्रतिशत पर यथावत रखने का फैसला किया। मुद्रास्फीति के कुछ हद तक काबू में रहने की वजह से ऐसा किया गया था। हालांकि, आरबीआई ने अगस्त और उसके बाद अल-नीनो की वजह से प्रतिकूल मौसमी घटनाओं की वजह से खाद्य कीमतों पर दबाव की आशंका भी जताई थी।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement