1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. टाटा संस के प्रमुख एन चंद्रशेखरन को एयर इंडिया का चेयरमैन नियुक्त किया गया

टाटा संस के प्रमुख एन चंद्रशेखरन को एयर इंडिया का चेयरमैन नियुक्त किया गया

टनाक्रम से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि एयर इंडिया की सोमवार को हुई बोर्ड बैठक में एन चंद्रशेखरन को नियुक्ति किया गया।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: March 14, 2022 17:05 IST
tata- India TV Hindi
Photo:FILE

tata

Highlights

  • एन चंद्रशेखरन के हाथ एयर इंडिया की कमान
  • टाटा संस की जिम्मेदारी संभाल रहे एन चंद्रशेखरन
  • सोमवार को हुई बोर्ड बैठक में चंद्रशेखरन की नियुक्ति पर मुहर लगाई गई

नई दिल्ली। टाटा संस के प्रमुख एन चंद्रशेखरन को एयर इंडिया का चेयरमैन नियुक्त कर दिया गया है। घटनाक्रम से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि एयर इंडिया की सोमवार को हुई बोर्ड बैठक में नियुक्ति को मंजूरी दी गई। उल्लेखनीय है कि टाटा संस द्वारा एयर इंडिया के अधिग्रहण के बाद चेयरमैन की खोज जारी थी। बीच में तुर्किश एयरलाइंस के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के पूर्व चेयरमैन इल्कर अयासी का नाम चेयरमैन के तौर पर आया था। हालांकि, बाद में उन्होंने एयर इंडिया का मैनेजरिंग डायरेक्टर (MD) ऑफ चीफ एक्सिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) बनने से इंकार कर दिया था।

कौन हैं नटराजन चंद्रशेखरन 

एन. चंद्रशेखरन का जन्म 1963 में तमिलनाडु के मोहनूर में हुआ था। इन्होंने नेशनल इंस्ट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एमसीए की पढाई की है। चंद्रशेखरन 1987 में टाटा समूह के साथ जुड़े थे और उन्हीं के नेतृत्व में टीसीएस टाटा समूह की सबसे बड़ी कंपनी बनने के साथ-साथ मुनाफे के टर्म्स में भी सर्वाधिक कामयाब साबित हुई। चंद्रा के नाम से मशहूर चंद्रशेखरन को अक्टूबर 2016 में टाटा संस के बोर्ड में शामिल किया गया था। जनवरी 2017 में उन्हें चेयरमैन नियुक्त किया गया था और फरवरी 2017 में उन्होंने यह पद संभाला था। वह टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, टाटा पावर और टीसीएस जैसी कंपनियों के बोर्ड में भी चेयरमैन हैं। चंद्रशेखरन नटराजन, जिन्हें ‘चंद्रा’ के नाम से भी पुकारा जाता है।

चंद्रशेखरन के सामने कई चुनौतियां

एयर इंडिया के चेयरमैन नियुक्त किए गए चंद्रशेखरन के सामने कई चुनौतियां होंगी। उन्हें एयर इंडिया को विमाान क्षेत्र की प्रतिस्पर्धा से मुकाबला करते हुए मुनाफा में लाना है। इसके साथ ही कर्ज के बोझ को भी कम करना है। हालांकि, जो उनका ट्रैक रिकॉर्ड रहा है उसे देखते हुए यह एक बेहतर फैसला मना जा रहा है। 

Latest Business News

gujarat-elections-2022