Tuesday, May 28, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. भारत में सिर्फ 15 साल में 41 करोड़ लोगों के माथे से मिटा 'गरीबी का ठप्पा', उपलब्धि पर UN ने की सरकार की तारीफ

भारत में सिर्फ 15 साल में 41 करोड़ लोगों के माथे से मिटा 'गरीबी का ठप्पा', उपलब्धि से हैरान UN ने की सरकार की तारीफ

भारत में कुल 415 मिलियन लोग केवल 15 वर्षों (2005-06-2019-21) के भीतर गरीबी से बाहर आ गए, जो मानव विकास मापदंडों में उल्लेखनीय सुधार को दर्शाता है।

Written By: Sachin Chaturvedi @sachinbakul
Published on: July 11, 2023 18:25 IST
भारत में कुल 41.5 करोड़ लोग गरीबी से बाहर आए- India TV Paisa
Photo:FILE केवल 15 वर्षों की अवधि के भीतर भारत में कुल 41.5 करोड़ लोग गरीबी से बाहर आए

भारत ने जितनी तेजी से गरीबी हटाने में सफलता हासिल की है, उसे देखकर संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nation) भी हैरान है। संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश द्वारा मानव विकास मापदंडों (Human Development Index) में उल्लेखनीय सुधार पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 2005/2006 से 2019/2021 तक केवल 15 वर्षों की अवधि के भीतर भारत में कुल 41.5 करोड़ लोग गरीबी से बाहर आए। 110 देशों के अनुमान के साथ वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक (एमपीआई) का नवीनतम अपडेट आज संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में ऑक्सफोर्ड गरीबी और मानव विकास पहल (ओपीएचआई) द्वारा जारी किया गया।

क्या है यूएन की गरीबी की परिभाषा

गरीबी को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ की परिभाषा की बात करें तो यहां गरीबी का तात्पर्य स्थायी आजीविका सुनिश्चित करने के लिए आय और उत्पादक संसाधनों की कमी से कहीं अधिक है। प्रतिदिन 1.90 अमेरिकी डॉलर से कम पर जीवन यापन करने वाले लोगों को आम तौर पर गरीबी में माना जाता है। भारत के अलावा, चीन ने 2010-2014 के बीच 69 मिलियन और इंडोनेशिया ने 2012-2017 के बीच 8 मिलियन लोगों को गरीबी से बाहर निकाला।

पाकिस्तान में सिर्फ 70 लाख लोगों की बदली किस्मत 

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि पड़ोसी बांग्लादेश और पाकिस्तान में, 2015-2019 और 2012-2018 के दौरान क्रमशः 19 मिलियन और 7 मिलियन व्यक्ति गरीबी से बाहर आए। रिपोर्ट में दावा किया गया कि गरीबी में कमी लाना संभव है। गरीबी में रहने वालों में 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों की संख्या आधी (566 मिलियन) है। बच्चों में गरीबी दर 27.7 प्रतिशत है, जबकि वयस्कों में यह 13.4 प्रतिशत है। 

भारत के अलावा इन देशों में घटी गरीबी

रिपोर्ट के अनुसार, 81 देशों पर केंद्रित 2000 से 2022 तक के रुझानों के विश्लेषण से पता चला कि 25 देशों ने 15 वर्षों के भीतर सफलतापूर्वक अपने वैश्विक एमपीआई मूल्यों को आधा कर दिया। कई देशों ने चार से 12 वर्षों में ही अपना एमपीआई आधा कर दिया है। उन देशों में भारत, कंबोडिया, चीन, कांगो, होंडुरास, इंडोनेशिया, मोरक्को, सर्बिया और वियतनाम शामिल हैं, इसमें तेजी से प्रगति को दोहराते हुए कहा गया है। कंबोडिया, पेरू और नाइजीरिया में गरीबी के स्तर में हाल ही में उल्लेखनीय कमी देखी गई है। कंबोडिया के लिए, रिपोर्ट के अनुसार इनमें से सबसे उत्साहजनक मामला गरीबी की घटना 36.7 प्रतिशत से गिरकर 16.6 प्रतिशत हो गई है, और गरीब लोगों की संख्या 7.5 वर्षों के भीतर आधी होकर 5.6 मिलियन से 2.8 मिलियन हो गई है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement