1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. अमेरिका-ईरान के बीच टकराव बढ़ने से सेंसेक्स 52 अंक टूटा, निफ्टी 12000 पर हुआ बंद

अमेरिका-ईरान के बीच टकराव बढ़ने से सेंसेक्स 52 अंक टूटा, निफ्टी 12000 पर हुआ बंद

ईरान द्वारा इराक में अमेरिका के सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले के बाद पश्चिम एशिया में तनाव बढ़ा है, जिससे निवेशकों की सोच प्रभावित हुई है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: January 08, 2020 16:43 IST
Sensex ends 52 pts lower, Nifty holds 12k amid US-Iran flare-up- India TV Paisa

Sensex ends 52 pts lower, Nifty holds 12k amid US-Iran flare-up

नई दिल्‍ली। अमेरिका और ईरान के बीच तनाव गहराने की खबरों के बीच बुधवार को बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 52 अंक टूट गया। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान एक समय करीब 400 अंक तक नीचे आ गया था। बाद में नुकसान की कुछ भरपाई हुई और अंत में सेंसेक्स 51.73 अंक या 0.13 प्रतिशत के नुकसान से 40,817.74 अंक पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 27.60 अंक या 0.23 प्रतिशत के नुकसान से 12,025.35 अंक पर आ गया। सेंसेक्स की कंपनियों में एलएंडटी में सबसे अधिक 2.19 प्रतिशत की गिरावट आई। ओएनजीसी, टाइटन, सनफार्मा, हीरो मोटोकॉर्प और इंफोसिस के शेयर भी नीचे आ गए। वहीं दूसरी ओर भारती एयरटेल, टीसीएस, अल्ट्राटेक सीमेंट, बजाज फाइनेंस और आईसीआईसीआई बैंक के शेयर 2.74 प्रतिशत तक लाभ में बंद हुए।

विश्लेषकों ने कहा कि वैश्विक शेयर बाजारों के अनुरूप घरेलू बाजार भी नीचे आए। ईरान द्वारा इराक में अमेरिका के सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले के बाद पश्चिम एशिया में तनाव बढ़ा है, जिससे निवेशकों की सोच प्रभावित हुई है। पश्चिम एशिया की घटनाओं से प्रभावित वायदा करोबार में ब्रेंट कच्चा तेल 0.62 प्रतिशत बढ़कर 68.67 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में दिन में रुपया तीन पैसे की गिरावट के साथ 71.78 प्रति डॉलर पर चल रहा था। शुरुआती कारोबार में रुपया 20 पैसे टूटकर खुला था। चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग, जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी 1.57 प्रतिशत तक नुकसान में रहे। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार भी नुकसान में चल रहे थे। घरेलू मोर्चे पर आर्थिक वृद्धि दर के अग्रिम अनुमान के अनुसार चालू वित्त वर्ष में देश की वृद्धि दर पांच प्रतिशत पर रहेगी, जो इसका 11 साल का निचला स्तर होगा। इसके चलते भी घरेलू निवेशकों ने सतर्कता बरती।

Write a comment