1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. सेंसेक्स 282 और निफ्टी 87 अंक बढ़कर बंद, RIL 3.5 फीसदी टूटा

सेंसेक्स 282 और निफ्टी 87 अंक बढ़कर बंद, RIL 3.5 फीसदी टूटा

आज के कारोबार में सबसे ज्यादा बढ़त फाइनेंशियल सर्विस सेक्टर में देखने को मिला है। इंडेक्स 1.5 फीसदी से ज्यादा की बढ़त के साथ बंद हुआ है। वहीं बैंकिंग, एफएमसीजी, आईटी सेक्टर में 1 फीसदी से ज्यादा की तेजी देखने को मिली

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: November 20, 2020 15:57 IST
शेयर बाजार में आज का...- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

शेयर बाजार में आज का कारोबार

नई दिल्ली। शेयर बाजार में एक दिन की नरमी के बाद एक बार फिर बढ़त देखने को मिली है। हफ्ते के आखिरी कारोबारी सत्र में सेंसेक्स 282 अंक की बढ़त के साथ 43882 कें स्तर पर और निफ्टी 87 अंक की बढ़त के साथ 12859 के स्तर पर बंद हुआ। बाजार में बढ़त बैंकिंग और फाइनेंशियल सर्विसेज सेक्टर में आई खरीदारी की वजह से मिली है। हालांकि रिलायंस इंडस्ट्रीज में आई तेज गिरावट से प्रमुख इंडेक्स में बढ़त सीमित ही रही।

बाजार में किसे हुआ फायदा और किसे नुकसान

आज के कारोबार में सबसे ज्यादा बढ़त फाइनेंशियल सर्विस सेक्टर में देखने को मिली है। इंडेक्स 1.5 फीसदी से ज्यादा की बढ़त के साथ बंद हुआ है। वहीं बैंकिंग, एफएमसीजी, आईटी सेक्टर में 1 फीसदी से ज्यादा की तेजी देखने को मिली है, मेटल सेक्टर इंडेक्स करीब 1 फीसदी बढ़कर बंद हुआ। दूसरी तरफ फार्मा सेक्टर में आधा फीसदी से कम की गिरावट दर्ज हुई है। निफ्टी में शामिल 33 स्टॉक आज बढ़त के साथ बंद हुए हैं। वहीं आरआईएल सहित 16 स्टॉक में गिरावट रही। 1 स्टॉक अपने पिछले स्तरों पर ही बना रहा। बढ़ने वाले स्टॉक्स में बजाज फिनसर्व 9.27 फीसदी, टाइटन 5.39 फीसदी, गेल 4.22 फीसदी बढ़कर बंद हुआ। वहीं गिरने वाले स्टॉक्स में रिलायंस 3.66 फीसदी, अडानी पोर्ट्स 1.56 फीसदी, और इंडसइंड बैंक 1.47 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ है।

कैसा रहा विदेशी बाजारों का हाल

आज के कारोबार में विदेशी बाजारों से मिले जुले संकेत देखने को मिले हैं। एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कंपोजिट करीब आधा फीसदी और हॉन्गकॉन्ग का हेंगसेंग 0.36 फीसदी की बढ़त के साथ बंद हुआ है। वहीं जापान का निक्केई 0.42 फीसदी टूटकर बंद हुआ। दूसरी तरफ घरेलू बाजारों के बंद होते वक्त जर्मनी और यूके के बाजारों में बढ़त देखने को मिल रही थी। वहीं इस दौरान फ्रांस के बाजारों में गिरावट का रुख था।

Write a comment