Sunday, April 14, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. फायदे की खबर
  4. पर्सनल लोन या ओवरड्राफ्ट: जानें पैसे की जरूरत पड़ने पर कौन सा विकल्प चुनना फायदेमंद

पर्सनल लोन या ओवरड्राफ्ट: जानें पैसे की जरूरत पड़ने पर कौन सा विकल्प चुनना फायदेमंद

पर्सनल लोन में आपको एकमुश्त राशि बैंक की ओर से दी जाती है। इसको चुकाने की एक तय सीमा होती है।वहीं, ओवरड्राफ्ट में, ब्याज राशि की गणना उपयोग की गई राशि और उपयोग किए गए दिनों की संख्या के आधार पर दैनिक आधार पर की जाती है।

Alok Kumar Edited By: Alok Kumar @alocksone
Published on: February 19, 2024 10:19 IST
Personal Loan vs Overdraft - India TV Paisa
Photo:FILE पर्सनल लोन या ओवरड्राफ्ट

हम सभी की जिंदगी में कभी न कभी एकदम से पैसे की जरूरत पड़ती है। उस वक्त हमारे पास सबसे आसान विकल्प पर्सनल लोन का हाता है। हालांकि, एक और विकल्प होता है, ओवरड्राफ्ट जिसे आप क्रेडिट विकल्पों में से चुन सकते हैं। ओवरड्राफ्ट (Overdraft) एक फाइनेंशियल सुविधा है, इसके द्वारा आप अपने बैंक अकाउंट से तब भी पैसे निकाल जब उसमें पैसे ना हों। ओवरड्राफ्ट के तहत आपको जो भी पैसा दिया जाता है, वो आपके रिकॉर्ड को देखकर दिया जाता है। यह सुविधा आप अपने बैंक अकाउंट पर ले सकते हैं। 

पर्सनल लोन क्या है?

पर्सनल लोन एक अनसिक्योर्ड लोन है जिसमें बैंक आपको एक निश्चित अवधि के लिए एक निश्चित ब्याज दर पर एक निश्चित राशि उधार देता है। आपको हर महीने एक निश्चित तारीख पर एक निश्चित ईएमआई का भुगतान करना होगा। 

ओवरड्राफ्ट क्या है?

ओवरड्राफ्ट एक क्रेडिट लाइन है जो बैंक द्वारा एक निर्दिष्ट सीमा के लिए एक निर्दिष्ट अवधि के लिए एक निर्दिष्ट ब्याज पर प्रदान की जाती है। आपके पास जब चाहें स्वीकृत सीमा से राशि निकालने की सुविधा है। साथ ही, आपके पास जब चाहें राशि चुकाने की सुविधा भी है। ब्याज उपयोग की गई राशि और उपयोग किए गए दिनों की संख्या पर लगाया जाता है। प्रीपेमेंट पर कोई जुर्माना नहीं होता है। 

पर्सनल लोन और ओवरड्राफ्ट के बीच अंतर

पर्सनल लोन में आपको एकमुश्त राशि बैंक की ओर से दी जाती है। इसको चुकाने की एक तय सीमा होती है। इस पर बैंक मोटा ब्याज वसूलते हैं। हर महीने आपको ईएमआई चुकानी होती है। वहीं, ओवरड्राफ्ट में, ब्याज राशि की गणना उपयोग की गई राशि और उपयोग किए गए दिनों की संख्या के आधार पर दैनिक आधार पर की जाती है। उधारकर्ता के पास जब चाहे तब भुगतान करने की छूट होती है। ओवरड्राफ्ट आमतौर पर एक वर्ष तक की अल्पकालिक अवधि के लिए अधिक उपयुक्त होता है।

पर्सनल लोन या ओवरड्राफ्ट: कौन बेहतर?

उपरोक्त अनुभाग में, हमने व्यक्तिगत ऋण और ओवरड्राफ्ट के बीच अंतर पर चर्चा की है। तो, आप कैसे तय करेंगे कि आपके लिए पर्सनल लोन बेहतर है या ओवरड्राफ्ट? ख़ैर, यह स्थिति पर निर्भर करता है। आइए कुछ परिदृश्यों पर चर्चा करें और आपको प्रत्येक परिदृश्य में किसे चुनना चाहिए।

लोन राशि पहले से पता होती है: पर्सनल लोन ऐसे व्यक्ति के लिए उपयुक्त होता है जो ठीक-ठीक जानता हो कि उसे कितनी राशि की आवश्यकता है और कितनी अवधि के लिए चाहिए। अगर आप मोबाइल, लैपटॉप या कंज्यूमर ड्यूरेबल खरीदना चाहते हैं और पहले से ही कीमत जानते हैं, तो आप पर्सनल लोन का विकल्प चुन सकते हैं।

दूसरी ओर, यदि आपको धन की आवश्यकता है लेकिन सटीक राशि के बारे में निश्चित नहीं हैं, तो आप ओवरड्राफ्ट का विकल्प चुन सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि कोई चिकित्सीय आपात स्थिति है, और आप निश्चित नहीं हैं कि अस्पताल में भर्ती होने और अस्पताल में भर्ती होने के बाद का खर्च कितना है, तो आप ओवरड्राफ्ट का विकल्प चुन सकते हैं। ऐसे में आप जरूरत के मुताबिक रकम निकाल सकते हैं।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। My Profit News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement