1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कोरोना महामारी के चलते संकट में ऑटो सेक्टर, वाहन डीलरों ने सरकार और RBI से मांगी मदद

कोरोना महामारी के चलते संकट में ऑटो सेक्टर, वाहन डीलरों ने सरकार और RBI से मांगी मदद

वाहन डीलरों ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर से व्यावसायिक रूप से बचे रहने के लिये माल एवं सेवा कर (जीएसटी) भुगतान से तीन महीने की छूट समेत राजकोषीय समर्थन की मांग की है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 14, 2021 8:14 IST
कोरोना महामारी के...- India TV Paisa
Photo:FILE

कोरोना महामारी के चलते संकट में ऑटो सेक्टर, वाहन डीलरों ने सरकार और RBI से मांगी मदद 

नयी दिल्ली। वाहन डीलरों ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर से व्यावसायिक रूप से बचे रहने के लिये माल एवं सेवा कर (जीएसटी) भुगतान से तीन महीने की छूट समेत राजकोषीय समर्थन की मांग की है। उद्योग सूत्रों के अनुसार वाहनों डीलरों का निकाय एफएडीए (फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसएिशंस) ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास को पत्र लिखकर तत्काल राहत देने का आग्रह करते हुए उन्हें क्षेत्र को हो रही कठिनाइयों से अवगत कराया है। 

पढें-  हिंदी समझती है ये वॉशिंग मशीन! आपकी आवाज पर खुद धो देगी कपड़े

पढें-  किसान सम्मान निधि मिलनी हो जाएगी बंद! सरकार ने लिस्ट से इन लोगों को किया बाहर

एफएडीए ने जीएसटी भुगतान को लेकर रिटर्न फाइल करने के लिये तीन महीने का समय देने का आग्रह किया है। निकाय 15,000 डीलरों का प्रतिनिधित्व करता है जिनके देश भर में करीब 25,000 डीलरशिप हैं। इसके अलावा उद्योग संगठन ने कोरोना वायरस महामारी के लिये जिस राज्य में जितने दिन तक ‘लॉकडाउन’ लगाया गया है, उतने दिनों तक कर्ज या उसकी किस्त लौटाने की मोहलत देने का अनुरोध किया है। 

पढें-  Aadhaar के बिना हो जाएंगे ये काम, सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर जरूरत को किया खत्म

पढें-  बैंक के OTP के नाम हो रहा है फ्रॉड, खाली हो सकता है अकाउंट, ऐसे रहे सावधान

साथ ही एफएडीए ने अरबीआई से सभी प्रकार के कर्जों पर 90 दिनों के लिये ब्याज दर में 4 प्रतिशत की कमी का भी सुझाव दिया है। वाहन डीलरों ने सरकार से पिछले साल की तरह इस बार भी नियोक्ताओं के कर्मचारियों के भविष्य निधि और कर्मचारी राज्य बीमा की सामाजिक सुरक्षा योजना में योगदान आनुपातिक रूप से कम करने की मांग की है। संगठन ने कहा कि अगर राहत के लिये कदम नहीं उठाये गये, वाहन खुदरा क्षेत्र पर प्रतिकूल वित्तीय प्रभाव पड़ेगा। 

Write a comment
X