1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको खरीद सकती है मुकेश अंबानी की कंपनी में 20% हिस्सेदारी

दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको खरीद सकती है मुकेश अंबानी की कंपनी में 20% हिस्सेदारी

सऊदी अरामको अभी भी रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. के साथ उसके तेल से रसायन बनाने की (ओ2सी) इकाई में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने को लेकर बातचीत कर रही है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: March 24, 2021 13:42 IST
दुनिया की सबसे बड़ी...- India TV Paisa
Photo:FILE

दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको खरीद सकती है रिलायंस इंडस्ट्रीज में 20% हिस्सेदारी

नयी दिल्ली। सऊदी अरामको अभी भी रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. के साथ उसके तेल से रसायन बनाने की (ओ2सी) इकाई में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने को लेकर बातचीत कर रही है। वित्तीय सेवा प्रदाता अमेरिकी कंपनी मोर्गन स्टेनले ने सोमवार को सऊदी अरब की कंपनी के 2020 के वित्तीय परिणाम की घोषणा के बाद विश्लेषकों के साथ बातचीत का हवाला देते हुए यह बात कही।

पढ़ें- भारतीय कंपनी Detel ने पेश किया सस्ता इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर, जबर्दस्त हैं खूबियां

उद्योगपति मुकेश अंबानी ने अगस्त 2019 में दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक कंपनी को ओ2सी इकाई में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचे जाने की घोषणा की थी। इसमें गुजरात के जामनगर में दो रिफाइनरी और पेट्रोरसायन संपत्ति शामिल है। सौदे को मार्च 2020 तक पूरा होना था लेकिन इसमें देरी हुई। मोर्गन स्टेनले ने एक रिपोर्ट में कहा, ‘‘सऊदी अरामको के वित्तीय परिणाम के बाद विश्लेषकों के साथ चर्चा में यह संकेत दिया गया कि कंपनी रिलायंस के साथ सहमति पत्र पर गैर-बाध्यकारी एमओयू पर हस्ताक्षर के संदर्भ में अभी भी संभावित भागीदारी के रूप में मौजूदा अवसर के आकलन को लेकर भारतीय कंपनी के साथ बातचीत कर रही है।’’

पढें-  Amazon के नए 'लोगो' में दिखाई दी हिटलर की झलक, हुई फजीहत तो किया बदलाव

पढें-  नया डेबिट कार्ड मिलते ही करें ये काम! नहीं तो हो जाएगा नुकसान

रिफाइनरी और पेट्रो रसायन संयंत्रों के अलावा ओ2सी कारोबार में ईंधन के खुदरा कारोबार में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी शामिल है। हालांकि इस सौदे में बंगाल की खाड़ी में केजी-डी6 ब्लॉक में स्थित तेल एवं गैस उत्पादन संपत्ति शामिल नहीं है। रिलायंस ने सऊदी अरामको के साथ गैर-बाध्यकारी आशय पत्र पर हस्ताक्षर के बाद 2019 में ओ2सी कारोबार का मूल्य 75 अरब डॉलर बताया था। 

Write a comment
X