Sunday, May 19, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. सोने ने सिर्फ 4 महीने में निवेशकों को किया मालामाल, दिया इतने फीसदी का शानदार रिटर्न

सोने ने सिर्फ 4 महीने में निवेशकों को किया मालामाल, दिया इतने फीसदी का शानदार रिटर्न

भारत ने 2021 में 1,050 टन सोने का आयात किया, 2022 में उसने 705 टन सोने का आयात किया था। दूसरी ओर, चांदी के आयात ने 2022 में सब को चौंका दिया, जो कि 9,500 टन था।

Edited By: Alok Kumar @alocksone
Published on: April 20, 2023 15:36 IST
सोना- India TV Paisa
Photo:FILE सोना

एक ओर शेयर बाजार में जारी सुस्ती से पिछले दो साल से निवेश निराश हैं। वहीं दूसरी ओर सोने में निवेश करने वाले निवेशक मालामाल हो रहे हैं। दरअसल, 2022 में भी शेयर बाजार ने निवेशकों को नकारात्मक रिटर्न दिया था। इस साल भी अभी तक निवेशकों को निराश किया है। वहीं, सोने में तेजी का दौर जारी रहने से इसमें निवेश करने वाले निवेशकों की शानदार कमाई हो रही है। इस साल जनवरी से अप्रैल तक सोने और चांदी ने निवेशकों को 10 फीसदी का रिटर्न दे दिया है। वहीं, पिछले साल सोना ने 13.5 फीसदी और चांदी ने 9.45 फीसदी का रिटर्न दिया था। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज ने एक रिपोर्ट में ये बात कही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह साल सुरक्षित निवेश का साल है। वैश्विक मंदी, भू-राजनीतिक अनिश्चितता के साथ-साथ ब्याज दरों में धीमी बढ़ोतरी की वजह से सोने की कीमतें बढ़ी हैं।

अब थोड़ी नरमी आने की संभावना

पिछले कुछ महीनों में सोने की कीमतों में तेज वृद्धि देखी गई है, इसलिए इसमें अब थोड़ी नरमी आने की संभावना है। मांग और आपूर्ति के कारकों ने ऐतिहासिक रूप से सोने की कीमतों पर सीधे तौर पर बड़ा प्रभाव नहीं डाला है, खास कर ऐसे हालात में जहां बाजार में अनिश्चितताएं मौजूद हैं। सोने की मांग बाजार को कभी निराश नहीं करती है, हालांकि बाजार में कुछ मंदी के कारण इस बार घरेलू मोर्चे पर चीजें थोड़ी अलग हैं, खास कर पिछले साल सोने के लिए सीमा शुल्क 15 प्रतिशत (उपकर सहित) और इस बार चांदी के लिए हालिया बदलाव के बीच।

705 टन सोने का आयात किया था

भारत ने 2021 में 1,050 टन सोने का आयात किया, 2022 में उसने 705 टन सोने का आयात किया था। दूसरी ओर, चांदी के आयात ने 2022 में सब को चौंका दिया, जो कि 9,500 टन था। उच्च कीमतों के बीच, सोने की खरीददारी में बाजार में कुछ मजबूती है। घरेलू मोर्चे पर, गोल्ड ईटीएफ में प्रमुख फंड हाउसों के कुल एयूएम के साथ 17,000 करोड़ रुपये से ऊपर जाने के साथ अच्छा ट्रैक्शन देखा गया है। मांग में वृद्धि का एक कारण आरबीआई की सोने की खरीददारी है जो लगातार बढ़ रही है। पिछले 10 वर्षों से सेंट्रल बैंक बड़ा खरीददार रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि डब्ल्यूजीसी के अनुसार, केंद्रीय बैंक की खरीद का मौजूदा पैमाना बहुत बड़ा है - पिछले एक दशक में औसतन 512 टन। सोने के बाजार को जो समर्थन मिल रहा है उसकी बड़ी वजह रूस-यूक्रेन युद्ध और चीन-ताइवान भू-राजनीतिक तनाव है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement