Wednesday, April 17, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. पीएम मोदी ने 'स्वर्ण सिंधु' को हरी झंडी दिखाई, इस नए प्रोजेक्ट से कच्चे तेल का पहला पार्सल रवाना

पीएम मोदी ने 'स्वर्ण सिंधु' को हरी झंडी दिखाई, इस नए प्रोजेक्ट से कच्चे तेल का पहला पार्सल ले जाने वाले टैंकर हुआ रवाना

शापूरजी पालोनजी के फ्लोटिंग प्रोडक्शन और स्टोरेज ऑफलोडिंग आर्मडा स्टर्लिंग वी का उपयोग ओएनजीसी परियोजना से तेल का उत्पादन करने के लिए किया जाता है। शापूरजी पल्लोनजी ने कहा कि एफपीएसओ ने 27 फरवरी को स्वर्ण सिंधु पर कच्चे तेल की अनलोडिंग की थी।

Sourabha Suman Edited By: Sourabha Suman @sourabhasuman
Updated on: March 02, 2024 21:53 IST
ओएनजीसी की कृष्णा गोदावरी गहरे पानी परियोजना से शनिवार को कच्चे तेल का पहला पार्सल ले जाने वाले टैंक- India TV Paisa
Photo:PTI ओएनजीसी की कृष्णा गोदावरी गहरे पानी परियोजना से शनिवार को कच्चे तेल का पहला पार्सल ले जाने वाले टैंकर 'स्वर्ण सिंधु' को हरी झंडी दिखाते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) की हाल ही में शुरू की गई कृष्णा गोदावरी गहरे पानी परियोजना से कच्चे तेल का पहला पार्सल ले जाने वाले टैंकर 'स्वर्ण सिंधु' को हरी झंडी दिखाई। ओएनजीसी ने एक बयान में कहा कि अपने चरम उत्पादन पर, यह परियोजना भारत के तेल और गैस उत्पादन में 7 प्रतिशत की बढ़ोतरी करेगी। भाषा की खबर के मुताबिक, बिहार के बेगुसराय में ध्वजारोहण समारोह का आयोजन किया गया। आपको बता दें,ओएनजीसी का केजी ब्लॉक KG-DWN-98/2, जिसने जनवरी में तेल उत्पादन शुरू किया था, आंध्र अपतटीय में स्थित है।

कैसे होता है काम

खबर के मुताबिक, फ्लोटिंग प्रोडक्शन और स्टोरेज ऑफलोडिंग (एफपीएसओ) का इस्तेमाल करते हुए यह क्षेत्र वर्तमान में प्रति दिन लगभग 12,000-12,500 बैरल तेल का उत्पादन कर रहा है। तेल को फ्लोटिंग प्रोडक्शन और स्टोरेज ऑफलोडिंग पर स्टोर किया जाता है, और एक बार जब यह एक महत्वपूर्ण लेवल तक पहुंच जाता है, तो इसे एक जहाज में शिफ्ट कर दिया जाता है, जो इसे पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन में प्रोसेसिंग के लिए तट पर एक रिफाइनरी में ले जाता है। खबर के मुताबिक, यह स्पष्ट नहीं है कि इस प्रोजेक्ट से बेगुसराय का क्या लेना-देना था।

27 फरवरी को स्वर्ण सिंधु पर कच्चे तेल की अनलोडिंग हुई

शापूरजी पालोनजी के फ्लोटिंग प्रोडक्शन और स्टोरेज ऑफलोडिंग आर्मडा स्टर्लिंग वी का उपयोग ओएनजीसी परियोजना से तेल का उत्पादन करने के लिए किया जाता है। एक अलग बयान में, शापूरजी पल्लोनजी ने कहा कि एफपीएसओ ने 27 फरवरी को स्वर्ण सिंधु पर कच्चे तेल की अनलोडिंग की थी। इसमें कहा गया है कि सभी एफपीएसओ सिस्टम की मजबूती और विश्वसनीयता का यह सफल प्रदर्शन भारत को वैश्विक मंच पर मजबूती से स्थापित करता है। एफपीएसओ इकाई का निर्माण और संचालन शापूरजी पालोनजी एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड (एसपी एनर्जी) द्वारा किया जा रहा है। एफपीएसओ ने 7 जनवरी, 2024 को "पहला तेल" हासिल किया।

भारतीय उपमहाद्वीप में सबसे बड़ा फ्लोटिंग इंस्टॉलेशन

आर्मडा स्टर्लिंग वी भारतीय उपमहाद्वीप में अब तक तैनात किया गया सबसे बड़ा फ्लोटिंग इंस्टॉलेशन है। इसकी प्रोसेसिंग क्षमता प्रति दिन 50,000 बैरल से अधिक तेल और 3 मिलियन मानक घन मीटर प्रति दिन (एमएमएससीएमडी) गैस के साथ-साथ 7,00,000 बैरल की भंडारण क्षमता है। कार्यक्रम के दौरान, प्रधान मंत्री ने ओएनजीसी के मुंबई हाई नॉर्थ ऑयल फील्ड पुनर्विकास चरण IV, हीरा पुनर्विकास चरण-III और कृष्णा गोदावरी नागयालंका एनईएलपी ब्लॉक में चरण-II विकास को भी राष्ट्र को समर्पित किया। 41,000 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश के साथ विकसित, कृष्णा गोदावरी बेसिन में KG-DWN 98/2 डीपवाटर ऑयल फील्ड एम तकनीकी रूप से सबसे जटिल परियोजनाओं में से एक है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement