Friday, July 19, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. एक्शन में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, कवच के एडवांस्ड वर्जन को मिशन मोड में इन्स्टॉल करने के दिए निर्देश

एक्शन में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, कवच के एडवांस्ड वर्जन को मिशन मोड में इन्स्टॉल करने के दिए निर्देश

वैष्णव ने निर्देश दिया कि कवच की स्थापना को एक बार चालू होने के बाद व्यवस्थित और तेजी से लागू किया जाए। रेल मंत्रालय इस बात पर जोर देता है कि कवच का विकास रेलवे सुरक्षा में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व करता है।

Edited By: Sourabha Suman @sourabhasuman
Updated on: June 25, 2024 13:11 IST
 रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव।- India TV Paisa
Photo:FILE रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव।

पश्चिम बंगाल में बीते दिनों हुए ट्रेन हादसे के बाद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रेल अधिकारियों को कवच के एडवांस्ड वर्जन को मिशन मोड में इन्स्टॉल करने के निर्देश जारी किए हैं। वैष्णव ने बीते सोमवार को रेल भवन में रेलवे के बड़े अधिकारियो के साथ मिलकर कवच 4.0 के नाम से विकसित उन्नत स्वचालित ट्रेन सुरक्षा प्रणाली (एटीपी) के विकास का मूल्यांकन किया। फाइनेंशियल एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, कवच 3.2 को फिलहाल निर्दिष्ट उच्च घनत्व वाले रूट्स पर तैनात किया जा रहा है। माना जा रहा है कि रेल मंत्रालय अब ट्रेन एक्सीडेंट को लेकर सक्रिय हो गया है। आने वाले दिनों में इस दिशा में और भी फैसले हो सकते हैं।

कवच 4.0 की प्रगति की समीक्षा

खबर के मुताबिक, रेल अधिकारियों ने कहा कि वैष्णव ने बीते 22 जून को कवच 4.0 की प्रगति की समीक्षा की। कवच के तीन मैनुफैक्चरर जो वर्जन 4.0 के परीक्षण के एडवांस फेज में हैं, उन्होंने मंत्री को इसकी प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। कवच की स्थापना और रेलवे सुरक्षा मंत्री की समीक्षा के बाद, वैष्णव ने निर्देश दिया कि कवच की स्थापना को एक बार चालू होने के बाद व्यवस्थित और तेजी से लागू किया जाए। रेल मंत्रालय इस बात पर जोर देता है कि कवच का विकास रेलवे सुरक्षा में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व करता है।

कवच को 2019 में SIL4 प्रमाणन मिस

वैष्णव ने कई मौकों पर इस बात पर जोर डाला था कि जहां ज्यादातर प्रमुख वैश्विक रेलवे प्रणालियों ने 1980 के दशक में एटीपी तकनीक को अपनाया था, वहीं भारतीय रेल ने 2016 में ट्रेन टक्कर बचाव प्रणाली के पहले वर्जन की स्वीकृति के साथ इस यात्रा की शुरुआत की। कठोर परीक्षण और परीक्षण कठोर परीक्षणों और परीक्षणों के बाद, इस सुरक्षा प्रणाली ने 2019 में SIL4 प्रमाणन प्राप्त किया, जो वैश्विक स्तर पर सुरक्षा प्रमाणन का उच्चतम स्तर है।

साल 2022 में इन्स्टॉल करने के प्रयास शुरू हुए

कवच प्रणाली के वर्जन 3.2 को  साल 2021 में, सिस्टम सर्टिफिकेशन हासिल हुआ और इसे अपनाया गया। साल 2022 की अंतिम तिमाही से, दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-हावड़ा जैसे उच्च घनत्व वाले मार्गों पर इस संस्करण को स्थापित करने के प्रयास शुरू हुए। स्वचालित ट्रेन सुरक्षा प्रणाली की स्थापना में शामिल विशेषज्ञ इस बात पर जोर देते हैं कि इसकी कार्यक्षमता पांच उप-प्रणालियों पर निर्भर करती है। रेलवे ट्रैक के साथ-साथ तीन सबसिस्टम-ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क, रेडियो उपकरण वाले टावर और आरएफआईडी टैग-स्थापित किए गए हैं, जबकि रेलवे स्टेशनों पर डेटा सेंटर स्थापित किए गए हैं और सिग्नलिंग सिस्टम में एकीकृत किए गए हैं।

कवच की स्थापना मिशन मोड में

खबर से यह संकेत मिलता है कि कवच वर्जन 4.0 के विकास और प्रमाणन के बाद, रेलवे एक मिशन-उन्मुख दृष्टिकोण में इसकी स्थापना में तेजी लाएगा। एक वरिष्ठ रेलवे अधिकारी ने कहा कि अधिक निर्माता इस प्रणाली को विकसित कर रहे हैं जो विकास के विभिन्न चरणों में हैं। एक सुरक्षा प्रणाली होने के नाते, कवच की मंजूरी के लिए प्रमाणित होने से पहले अंतरराष्ट्रीय मानकों पर सावधानीपूर्वक परीक्षण की जरूरत होती है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement