1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कल से बदल जाएगा Credit Card और Debit Card से पेमेंट का तरीका, 6 स्टेप्स में समझिए पूरा प्रोसेस

कल से बदल जाएगा Credit Card और Debit Card से पेमेंट का तरीका, 6 स्टेप्स में समझिए पूरा प्रोसेस

आरबीआई ने ग्राहकों की वित्तीय सुरक्षा को बढ़ाने के लिए एक अक्टूबर से भुगतान कार्डों को टोकन में बदलना अनिवार्य कर दिया है

Sachin Chaturvedi Written By: Sachin Chaturvedi @sachinbakul
Updated on: September 30, 2022 17:22 IST
Credit debit cards- India TV Hindi
Photo:FILE Credit debit cards

अगर आप भी ऑनलाइन शॉपिंग के लिए डेबिट कार्ड(Debit Card) और क्रेडिट कार्ड(Credit Card) से पेमेंट करते हैं तो कल से आपके ट्रांजेक्शन का तरीको बदल जाएगा। कल से रिजर्व बैंक कार्ड पेमेंट के लिए टोकनाइजेशन की प्रक्रिया को अनिवार्य बनाने जा रहा है। इसके लिए आरबीआई ने तैयारी पूरी कर ली हैै। इस बार में जानकारी देते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कहा कि देश भर में करीब 35 करोड़ कार्ड को टोकन में बदला जा चुका है। अब ये सभी कार्ड टोकनाइजेशन सिस्टम को 1 अक्टूबर से अपनाने के लिए तैयार हैं। 

1 अक्टूबर से लागू हो रहा है नियम 

टोकनीकरण के तहत क्रेडिट और डेबिट कार्ड के विवरण को ‘टोकन’ नामक एक वैकल्पिक कोड में बदला जाता है। आरबीआई इससे पहले कई बार इसे अपनाने की समयसीमा को बढ़ा चुका है। डिप्टी गवर्नर टी रवि शंकर ने कहा कि प्रणाली में कुछ लोग ऐसे हैं, जिन्होंने अपनी अनिच्छा के कारण इसका पालन नहीं किया और उम्मीद है कि वे जल्द ही इन मानदंडों का पालन करेंगे। आरबीआई ने ग्राहकों की वित्तीय सुरक्षा को बढ़ाने के लिए एक अक्टूबर से भुगतान कार्डों को टोकन में बदलना अनिवार्य कर दिया है।‘‘

देश में 101 करोड़ डेबिट और क्रेडिट कार्ड  

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, अगस्त के अंत तक प्रणाली में डेबिट और क्रेडिट कार्ड की कुल संख्या 101 करोड़ से अधिक है। लगभग 35 करोड़ टोकन पहले ही बनाए जा चुके हैं।’’ उन्होंने कहा कि सितंबर में कुल लेनदेन का लगभग 40 प्रतिशत टोकन के जरिये किया गया और इसके जरिये करीब 63 करोड़ रुपये के लेनदेन किए गए। 

क्या है यूनिक टोकन?

इस टोकन को आरबीआई के द्वारा जारी किया जाएगा। इसमें आपके पेमेंट से जुड़े सभी ऑप्शन दिए जाएंगे। एक यूनिक कोड के जरिए वास्तविक कार्ड डिटेल्स को बदलना है। बैंकिंग धोखाधड़ी की बढ़ती घटना को देखते हुए आरबीआई ने यह कदम उठाया है। इस कदम से क्रेडिट और डेबिट कार्ड के माध्यम से हो रही लेनदेन पहले के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित हो जाएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि लेनदेन के समय आपके क्रेडिट और डेबिट कार्ड की एक्चुअल डिटेल्स मर्चेंट के पास नहीं जाएगी बल्कि एक नंबर जाएगा। इससे धोखाधड़ी करना मुश्किल होगा। 

आप अपने कार्ड को टोकन में कैसे बदलेंगे? इन 6 स्टेप्स से समझिए

आरबीआई ने एक ट्वीट करते हुए बताया है कि एक आम नागरिक अपने कार्ड को एक यूनिक टोकन में कैसे बदल सकता है? उसके लिए आरबीआई ने 6 स्टेप बताएं हैं। आइए जानते हैं वो स्टेप कौन-कौन से हैं?

स्टेप 1: 'प्रारंभ करें'

खरीदारी करने और भुगतान लेनदेन शुरू करने के लिए किसी भी ई-कमर्शियल मर्चेंट वेबसाइट या एप्लिकेशन पर जाएं।
स्टेप 2: 'अपना कार्ड चुनें'
चेक आउट के दौरान, भुगतान विधि के रूप में पहले सहेजे गए अपने डेबिट, क्रेडिट कार्ड का विवरण दर्ज करें।
स्टेप 3: 'अपना कार्ड सुरक्षित करें'
'RBI के दिशानिर्देशों के अनुसार अपने कार्ड को सुरक्षित करें' या 'RBI के दिशानिर्देशों के अनुसार अपने कार्ड को टोकनाइज़ करें' विकल्प चुनें।
स्टेप 4: 'टोकन बनाने के लिए सहमति दें'
आपके बैंक द्वारा आपके मोबाइल फोन या ईमेल पर भेजा गया ओटीपी दर्ज करें और आगे बढ़ें।
स्टेप 5: 'टोकन जेनरेट करें'
आपका टोकन जेनरेट कर दिया गया है और आपके द्वारा दी गई जानकारी को सेव कर लिया गया है।
स्टेप 6: 'टोकनाइज्ड'
जब आप उसी वेबसाइट या एप्लिकेशन पर दोबारा जाते हैं, तो आपके द्वारा सेव किए गए कार्ड के डिटेल वहां उपलब्ध मिलेंगे जिसमें आपको आपके कार्ड के अंतिम के चार अंक दिख रहे होंगे। इसकी मदद से आप वहां आसानी से टोकनाइज्ड पेमेंट कर सकेंगे। 

Latest Business News