Monday, June 17, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. FY2024-25 में बैंकों का लोन ग्रोथ घटकर 14% रह जाएगा, क्रिसिल रेटिंग ने जानें और क्या कहा?

FY2024-25 में बैंकों का लोन ग्रोथ घटकर 14% रह जाएगा, क्रिसिल रेटिंग ने जानें और क्या कहा?

बैंक ऋण वृद्धि उपभोक्ताओं और व्यवसायों को जारी किए गए बकाया बैंक ऋणों के कुल मूल्य में बदलाव को मापती है। वित्त वर्ष 2024-25 में (सकल घरेलू उत्पाद) जीडीपी वृद्धि दर भी घटकर 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

Edited By: Sourabha Suman @sourabhasuman
Updated on: May 28, 2024 16:22 IST
क्रिसिल ने कहा कि धीमी जमा अभिवृद्धि ऋण वृद्धि पर नियंत्रण रख सकती है। - India TV Paisa
Photo:FILE क्रिसिल ने कहा कि धीमी जमा अभिवृद्धि ऋण वृद्धि पर नियंत्रण रख सकती है।

देश की बैकिंग सिस्टम में लोन ग्रोथ चालू वित्त वर्ष 2024-25 में दो प्रतिशत घटकर 14 प्रतिशत हो सकती है। घरेलू रेटिंग एजेंसी क्रिसिल के मुताबिक, वित्त वर्ष 2023-24 में बैकिंग प्रणाली की ऋण वृद्धि दर 16 प्रतिशत थी, अगर कोई एचडीएफसी मर्जर के प्रभाव को छोड़ दे। भाषा की खबर के मुताबिक, रेटिंग एजेंसी के मुताबिक, इस मंदी से वित्त वर्ष 2024-25 में (सकल घरेलू उत्पाद) जीडीपी वृद्धि दर भी घटकर 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है। यह वित्त वर्ष 2023-24 में 7.6 प्रतिशत थी।

जमा और ऋण वृद्धि के बीच का अंतर कम हुआ

खबर के मुताबिक, क्रिसिल ने कहा कि धीमी जमा अभिवृद्धि ऋण वृद्धि पर नियंत्रण रख सकती है। हालांकि एजेंसी ने माना कि पिछले वर्ष जमा और ऋण वृद्धि के बीच का अंतर कम हुआ है। एजेंसी ने कहा कि इस राजकोषीय वृद्धि को उच्च आधार प्रभाव, जोखिम भार में संशोधन और कुछ हद तक कम सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि से नियंत्रित किया जाएगा। क्रिसिल ने कहा कि कॉरपोरेट सेगमेंट, जो कुल ऋणों का 45 प्रतिशत है, वित्त वर्ष 25 में 13 प्रतिशत की वृद्धि को बनाए रखने का अनुमान है, खुदरा विकास वित्त वर्ष 24 में 17 प्रतिशत से घटकर 16 प्रतिशत हो जाएगा।

क्या मापता है बैंक ऋण

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि यह कहना जल्दबाजी होगी कि ऋण मांग के मूलभूत चालक मोटे तौर पर बरकरार हैं। निजी कॉर्पोरेट पूंजीगत व्यय (कैपेक्स) में पुनरुद्धार खासकर वित्त वर्ष 2024-25 की दूसरी छमाही में वृद्धि को बढ़ावा दे सकते हैं। बैंक ऋण वृद्धि उपभोक्ताओं और व्यवसायों को जारी किए गए बकाया बैंक ऋणों के कुल मूल्य में बदलाव को मापती है। उधार लेना और खर्च करना उपभोक्ता विश्वास के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है।

रिटेल बैंकों के लिए सबसे तेजी से बढ़ने वाला सेगमेंट बना रहेगा, लेकिन असुरक्षित उपभोक्ता ऋण (खुदरा ऋण का 25 प्रतिशत) में कम वृद्धि का असर महसूस होगा। क्योंकि बैंक अतिरिक्त 25 प्रतिशत अंक जोखिम भार के नियामक निर्धारण के बाद अपनी रणनीतियों को फिर से तैयार कर रहे हैं और संभावित वृद्धि का मुकाबला करने के लिए अपनी अंडरराइटिंग प्रक्रियाओं को मजबूत कर रहे हैं।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Market News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement