1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. Flipkart अब 90 मिनट में करेगी किराना सामान की डिलीवरी, ई-कॉमर्स में बढ़ेगी प्रतिस्पर्धा

Flipkart अब 90 मिनट में करेगी किराना सामान की डिलीवरी, ई-कॉमर्स में बढ़ेगी प्रतिस्पर्धा

अमेजन किराना सामान के लिए त्वरित डिलीवरी सेवा की पेशकश करती है। इस वर्ग में अलीबाबा के समर्थन वाली बिग बास्केट और मुकेश अंबानी की जियो मार्ट के साथ प्रतिस्पर्घा है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 29, 2020 9:44 IST
Flipkart to offer 90-minute deliveries of groceries- India TV Paisa
Photo:GADGETS

Flipkart to offer 90-minute deliveries of groceries

नई दिल्‍ली। वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट ने किराना सामान की डिलीवरी डेढ़ घंटे के भीतर करने की घोषणा की है। कंपनी तेजी से बढ़ते भारतीय खुदरा बाजार में अमेजॉन डॉट कॉम और अरबपति कारोबारी मुकेश अंबानी की कंपनी जियोमार्ट से मुकाबले के तहत यह कदम उठा रही है। फ्लिपकार्ट के उपाध्यक्ष संदीप कारवा ने कहा कि कंपनी की स्थानीय स्तर पर त्वरित डिलीवरी सेवा फ्लिपकार्ट क्विक के तहत 90- मिनट के भीतर किराना सामान के साथ ही ताजी सब्जियों, मांस और मोबाइल फोन भी पहुंचाया जाएगा। यह सेवा शुरू में बेंगलूरू में चुनींदा स्थानों पर उपलब्ध होगी और उसके बाद वर्ष के अंत तक इसका विस्तार देश के छह बड़े शहरों तक कर दिया जाएगा।

भारत का खुदरा बाजार वर्तमान में 950 अरब डॉलर का आंका गया है और 2025- 26 तक इसके 1,300 अरब डॉलर तक पहुंच जाने का अनुमान है। इसमें ई-कॉमर्स कारोबार 78 अरब डॉलर  रहने का अनुमान है, जिसके 2025 तक 100 अरब डॉलर तक पहुंचने का अनुमान व्यक्त किया जा रहा है। इसमें किराना सामान का कारोबार सबसे नई श्रेणी है, जिसमें ई-कॉमर्स कंपनियां शुरुआत कर रही हैं।

अमेजन किराना सामान के लिए त्वरित डिलीवरी सेवा की पेशकश करती है। इस वर्ग में अलीबाबा के समर्थन वाली बिग बास्केट और मुकेश अंबानी की जियो मार्ट के साथ प्रतिस्पर्घा है। जियो मार्ट व्हट्सएप का इस्तेमाल करते हुए ग्राहकों को स्थानीय किराना दुकानों से जोड़ने का काम कर रही है। कोरोना वायरस महामारी के बीच सामानो की ऑनलाइन डिलीवरी ने काफी जोर पकड़ा है। जियोमार्ट के इस काम में उतरने से प्रतिस्पर्धा और तेज होने की उम्मीद है।

लॉकडाउन के कारण ऑफलाइन कारोबार करने वालों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है ऐसे में ऐसे कारोबारी भी डिजिटल प्लेटफॉर्म के साथ जुड़ने को लेकर गंभीर हैं। गोल्डमैन साक्स की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक भारत का ई-कॉमर्स कारोबार 2024 तक साल दर साल 27 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 99 अरब डॉलर पर पहुंच जाने का अनुमान है। इस वृद्धि में किराना और फैशन परिधानों की बढ़ती बिक्री का अहम योगदान होगा। 

Write a comment
X