1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कोरोना मरीजों के लिए आई राहत की खबर, बजाज हेल्‍थकेयर ने पेश की कोविड-19 उपचार के लिए इवेजाज दवा

कोरोना मरीजों के लिए आई राहत की खबर, बजाज हेल्‍थकेयर ने पेश की कोविड-19 उपचार के लिए इवेजाज दवा

कंपनी ने कहा है कि डीसीजीआई ने इस टेबलेट इवेजाज को घरेलू और विदेशी बाजारों में भेजने की अनुमति दे दी है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 06, 2021 20:20 IST
Bajaj Healthcare launches Ivejaj tablets for COVID treatment- India TV Paisa
Photo:PTI

Bajaj Healthcare launches Ivejaj tablets for COVID treatment

नई दिल्‍ली। दवा कंपनी बजाज हेल्थकेयर ने अपनी परजीवी-रोधी दवा इवेजाज को बाजार में उतारने की घोषणा की। इस दवा को कोविड-19 संक्रमण के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकता है। कंपनी ने बंबई शेयर बाजार को भेजी सूचना में कहा है कि उसे इस दवा के विनिर्माण और विपणन के लिए भारतीय दवा महा नियंत्रक (डीसीजीआई) से मंजूरी मिल गई है।

बजाज हेल्थकेयर ने कहा है कि इवेरमैक्टिन के लिए औषधीय सामग्री और उसका फार्मूलेशन उसकी अपनी खुद की अनुसंधान एवं विकास टीम के जरिये सफलता पूर्वक विकसित किया है। कंपनी ने कहा है कि डीसीजीआई ने इस टेबलेट इवेजाज को घरेलू और विदेशी बाजारों में भेजने की अनुमति दे दी है।

संक्रमण से निपटने के लिए सिटी बैंक 200 करोड़ की मदद देगा

देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रकोप से निपटने के लिए सिटी बैंक ने 200 करोड़ रुपये देने की घोषणा की। सिटी बैंक के अलावा अमेरिका की फार्गो कंपनी ने तीस लाख डॉलर, स्विस बैंक ने 15 लाख डॉलर और अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट ने दस लाख डॉलर मदद के तौर पर देने की घोषणा की। सिटी बैंक के एशिया क्षेत्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारी पीटर बबेज ने कहा कि हम भारत में 100 वर्षों से भी अधिक समय से है और यह देश हमारे बीस हजार से अधिक कर्मचारियों का घर हैं। हम स्वास्थ्य संकट की इस घड़ी में भारत की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

बैंक ने एक बयान में कहा कि वह चिकित्सा और मानवीय जरूरतों में 75 करोड़ रुपये की तत्काल राहत देगा जबकि पिछले वित्त वर्ष में वह 75 करोड़ की मदद कर चुका हैं। इस राशि का इस्तेमाल ऑक्सीजन की आपूर्ति, अस्पतालों में बेड जोड़ना, डायग्नोस्टिक टेस्टिंग सिस्टम, व्यक्तिगत सुरक्षा किट और भारत के फ्रंटलाइन हेल्थकेयर श्रमिकों के लिए अन्य आपूर्ति के लिए किया जाएगा। उसने कहा कि शेष राशि का उपयोग सार्वजनिक और निजी स्वास्थ्य सेवाओं के बुनियादी ढांचे के लिए और युवाओं को रोजगार योग्य कौशल प्रदान करने के लिए किया जाएगा।

वेल्स फार्गो ने भी कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए राहत प्रयासों सहायता करते हुए 22 करोड़ रुपये देने की घोषणा की है। इस राशि का इस्तेमाल गैर-सरकारी संगठनों के माध्यम से अस्पताल की क्षमता बढ़ाने, ऑक्सीजन सांद्रता और महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति करने में किया जाएगा। वही अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट ने भी मदद का हाथ बढ़ाते हुए सात करोड़ रुपये यानी दस लाख डॉलर की सहायता की घोषणा की है। जिसमें वह कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए तुरंत हजारों ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर और अन्य जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरण मुहैया कराएगा। इसके अलावा स्विस बैंक का यूबीएस ग्रुप एजी भारत में चल रहे राहत अभियान में 15 लाख डॉलर (11 करोड़ रुपये) की मदद करेगा। वह चिकित्सा की आपूर्ति में योगदान देगा।

दिल्‍ली में 10 मई को खत्‍म होगा क्‍या Lockdown...

Covid-19 महामारी का सबसे बुरा असर आया सामने, 23 करोड़ भारतीयों को किया प्रभावित

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रकोप को देखते हुए Honda Cars ने लिया बड़ा फैसला

LIC के पॉलिसी धारकों के लिए आई जरूरी खबर...

COVID-19 को फैलने से रोकने में मदद करना चाहते हैं मुकेश अंबानी, सरकार से मांगी इस बात की इजाजत

 

Write a comment
X