1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Future Retail ने खटखटाया दिल्‍ली हाईकोर्ट का दरवाजा, SIAC आदेश के खिलाफ दायर की याचिका

Future Retail ने खटखटाया दिल्‍ली हाईकोर्ट का दरवाजा, SIAC आदेश के खिलाफ दायर की याचिका

एसआईएसी ने अपने एक फैसले में यह भी कहा था कि रिलायंस रिटेल के फ्यूचर ग्रुप की संपत्तियों की बिक्री से जुड़े विवाद में अमेजन और फ्यूचर ग्रुप के बीच चल रही मध्यस्थता में फ्यूचर रिटेल एक पक्ष है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: October 28, 2021 13:29 IST
Future Retail moves Delhi High Court against SIAC order- India TV Paisa
Photo:FUTURE GROUP

Future Retail moves Delhi High Court against SIAC order

नई दिल्‍ली। फ्यूचर रिटेल और उसके प्रवर्तकों ने सिंगापुर के मध्यस्थता न्यायाधिकरण एसआईएसी द्वारा रिलायंस रिटेल के साथ उसके 24,713 करोड़ रुपये के सौदे पर रोक लगाने संबंधी आदेश पर स्थगन और उसे निरस्त करने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया है। एसआईएसी ने 21 अक्टूबर को यह आदेश दिया था। सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र (एसआईएसी) ने 21 अक्टूबर को फ्यूचर रिटेल लिमिटेड (FRL) की उस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें रिलायंस के साथ सौदे पर पिछले साल 25 अक्टूबर को एसआईएसी के आपात मध्यस्थ (इमरजेंसी आर्बिट्रेटर) द्वारा लगाई गई अंतरिम रोक को हटाने की मांग की गई थी।

एफआरएल ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि कंपनी ने 25, अक्टूबर 2020 के आपात मध्यस्थ के अंतरिम आदेश को खारिज करने के लिए अपने आवेदन पर एसआईएसी द्वारा 21 अक्टूबर, 2021 को जारी आक्षेपित आदेश के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है। एफआरएल ने हाईकोर्ट से "21 अक्टूबर 2021 के आक्षेपित आदेश के पालन पर रोक लगाने और उसे निरस्त करने" तथा "वैकल्पिक रूप से, कंपनी को शेयरधारकों और लेनदारों की बैठक करने की मंजूरी देने का अनुरोध किया है, जैसा कि एनसीएलटी (राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण) मुंबई द्वारा 28 सितंबर के आदेश में कहा गया था।"

इससे पहले इस महीने एसआईएसी ने अपने एक फैसले में यह भी कहा था कि रिलायंस रिटेल के फ्यूचर ग्रुप की संपत्तियों की बिक्री से जुड़े विवाद में अमेजन और फ्यूचर ग्रुप के बीच चल रही मध्यस्थता में फ्यूचर रिटेल एक पक्ष है। फ्यूचर ने एसआईएसी के समक्ष तर्क दिया था कि उसे मध्यस्थता की कार्यवाही से बाहर रखा जाना चाहिए क्योंकि वह अपने प्रवर्तक फ्यूचर कूपन प्राइवेट लिमिटेड (एफसीपीएल) और अमेजन के बीच विवाद का पक्ष नहीं है।

गौरतलब है कि फ्यूचर द्वारा रिलायंस इंडस्ट्रीज की खुदरा शाखा को उसके खुदरा, थोक, रसद और वेयरहाउसिंग संपत्तियों की 24,713 करोड़ रुपये की बिक्री को रोकने की कोशिश कर रहे अमेजन ने आरोप लगाया है कि रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) और फ्यूचर के बीच यह सौदा, 2019 में किशोर बियानी के नेतृत्व वाली कंपनी के साथ हुए उसके खुद के सौदे का उल्लंघन करता है। 

यह भी पढ़ें: भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी क्‍यों नहीं लॉन्‍च कर रही है इलेक्ट्रिक वाहन, Maruti ने बताई इसकी वजह

यह भी पढ़ें:  दिवाली से ठीक पहले आ सकती है आपके लिए बुरी खबर...

यह भी पढ़ें: सोना हुआ और भी ज्‍यादा सस्‍ता, धनतेरस से पहले नहीं थम रही गिरावट

यह भी पढ़ें: दिवाली से पहले पाकिस्‍तान को मिला बड़ा तोहफा, पीएम खान ने कहा शुक्रिया भाई सलमान!

Write a comment
bigg boss 15