1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. नोएडा प्राधिकरण ने वेव समूह को आवंटित जमीन वापस ली, 2,500 करोड़ रुपये का बकाया नहीं मिलने पर उठाया कदम

नोएडा प्राधिकरण ने वेव समूह को आवंटित जमीन वापस ली, 2,500 करोड़ रुपये का बकाया नहीं मिलने पर उठाया कदम

नोएडा प्राधिकरण ने बुधवार को कहा कि उसने रीयल एस्टेट डेवलपर वेव समूह से 1.08 लाख वर्ग मीटर वाणिज्यिक भूमि को वापस ले लिया है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: March 11, 2021 9:07 IST
नोएडा प्राधिकरण ने...- India TV Paisa
Photo:FILE

नोएडा प्राधिकरण ने वेव समूह से 1.08 लाख वर्ग मीटर वाणिज्यिक भूमि को वापस ले लिया है।

नोएडा। नोएडा प्राधिकरण ने बुधवार को कहा कि उसने रीयल एस्टेट डेवलपर वेव समूह से 1.08 लाख वर्ग मीटर वाणिज्यिक भूमि को वापस ले लिया है। कंपनी द्वारा प्राधिकरण का 2,500 करोड़ रुपये का बकाया नहीं चुकाये जाने के कारण यह भूमि वापस ली गई है। समूह ने नोएडा प्राधिकरण की इस कार्रवाई को ‘अवैध’ और ‘जोर जबर्दस्ती’ वाला बताया और कहा कि वह मामले में प्राधिकरण के खिलाफ ‘उचित कानूनी कार्रवाई’ करेगा। नोएडा प्राधिकरण ने एक बयान में कहा कि समूह से जिस भूमि को वापस लिया गया है उसमें सेक्टर 25ए और सेक्टर 32 में दो इमारतें शामिल हैं। इसमें 43 मंजिला ढांचा भी शामिल है। इसके अलावा खाली जमीन भी शामिल है। 

पढें-  नया डेबिट कार्ड मिलते ही करें ये काम! नहीं तो हो जाएगा नुकसान

पढें-  दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों की प्राइज लिस्ट, ​जानिए कितने में मिलेगी कार और बाइक

वेव मेगा सिटी सेंटर को 2011 में 6.18 लाख वर्ग मीटर वाणिज्यिक भूमि आवंटित की गई थी। इसके साथ ही समूह को 1.08 लाख वर्ग मीटर का अतिरिक्त भू आवंटन भी किया गया था। जो कि इस साल 11 फरवरी को निरस्त कर दिया गया। प्राधिकरण ने कहा, ‘‘इस अतिरिक्त 1.08 लाख वर्ग मीटर जमीन को वापस ले लिया गया है। इसमें 63,568 वर्गमीटर खुली जमीन है जबकि 44,853 वर्गमीटर जमीन ऐसी है जिसपर ढांचा खड़ा है। इस जमीन पर दो इमारतें हैं। एक 43 मंजिला इमारत है और अन्य में तीन से 10 मंजिला ढांचा खड़ा है। इन दोनों इमारतों को सील कर दिया गया है। 

पढ़ें-  भारत के सभी बैंकों के लिए आ गई ये सिंगल एप, ICICI बैंक ने किया कमाल

पढ़ें- ATM मशीन को बिना छुए निकाल सकते हैं पैसा, इस सरकारी बैंक ने शुरू की सुविधा

नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु महेश्वरी ने कहा कि रियल एस्टेट कंपनी पर प्राधिकरण का करीब 2,500 करोड़ रुपये का बकाया है। यह बकाया जमीन और पट्टा किराया का बकाया है जिसका भुगतान विभिन्न चरणों में किया जाना था। बहरहाल, वेब समूह ने प्राधिकरण के इस कदम को जोर जबर्दस्ती वाली अवैध कार्रवाई बताया है और कहा कि इससे उसके संबंधित पक्षों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Write a comment
X