1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. पीएम मोदी कल करेंगे यूएन आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के सत्र को संबोधित, अस्‍थायी सदस्‍य बनने के बाद पहला भाषण

पीएम मोदी कल करेंगे यूएन आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के सत्र को संबोधित, अस्‍थायी सदस्‍य बनने के बाद पहला भाषण

भारत के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के चुनाव में जीत के बाद यह पहला मौका होगा, जब प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करेंगे।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 16, 2020 12:45 IST
PM Modi to deliver keynote speech at High-Level Segment of UN ECOSOC- India TV Paisa
Photo:PTI

PM Modi to deliver keynote speech at High-Level Segment of UN ECOSOC

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को डिजिटल माध्यम से संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के उच्च स्तरीय सत्र को संबोधित करेंगे। विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को यह जानकारी दी। विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार प्रधानमंत्री शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के समापन सत्र को संबोधित करेंगे, जिसमें उनके साथ नॉर्वे के प्रधानमंत्री तथा संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस भी शामिल होंगे।

विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि भारत के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के चुनाव में जीत के बाद यह पहला मौका होगा, जब प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करेंगे। भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के रूप में 2021-22 सत्र के लिए निर्वाचित हुआ है। मंत्रालय ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के 75वें स्थापना दिवस के अवसर पर आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के उच्च स्तरीय सत्र का विषय कोविड-19 के बाद बहुपक्षीयता  है, जो सुरक्षा परिषद को लेकर भारत की प्राथमिकता को दर्शाता है जहां उसने कोविड-19 के बाद के विश्व में बहुपक्षीय सुधार की बात कही है।

इस वार्षिक उच्च स्तरीय सत्र में सरकार, निजी क्षेत्र, नागरिक संस्थानों और शिक्षाविदों सहित विविध समूहों के उच्च स्तरीय प्रतिनिधि शामिल होंगे। इसमें इस बात पर विचार रखे जा सकते हैं कि 75वीं वर्षगांठ पर हम कैसा संयुक्त राष्ट्र चाहते हैं। बयान के अनुसार, अंतराष्ट्रीय माहौल में बदलाव और कोविड-19 महामारी के बीच इस सत्र में बहुपक्षीय व्यवस्था को आकार देने से जुड़े अहम कारकों तथा मजबूत नेतृत्व, प्रभावी अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं, व्यापक सहभागिता के जरिये वैश्विक एजेंडे को मजबूत बनाने के रास्तों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। 

Write a comment
X