Tuesday, June 18, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. नया मोटर वाहन कानून लागू होने से सरकार की खुली लॉटरी, 2 महीने में ही हो गई इतनी मोटी कमाई

नया मोटर वाहन कानून लागू होने से सरकार की खुली लॉटरी, 2 महीने में ही हो गई इतनी मोटी कमाई

तमिलनाडु में सबसे ज्यादा 14,13,996 चालान काटे गए हैं, जबकि सबसे कम केवल 58 चालाना गोवा में जारी हुए हैं।

Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: November 22, 2019 13:17 IST
Rs 577-crore challans issued so far since rollout of new Motor Vehicles Act- India TV Paisa
Photo:RS 577-CRORE CHALLANS ISS

Rs 577-crore challans issued so far since rollout of new Motor Vehicles Act

नई दिल्‍ली। सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि देश में एक सितंबर से लागू हुए नए मोटर वाहन अधिनियम के बाद से अब‍तक कुल 38 लाख चालान काटे गए हैं, जिनके जरिये 577.5 करोड़ रुपए का राजस्‍व हासिल हुआ है। लोकसभा में एक प्रश्‍न का जवाब देते हुए गडकरी ने कहा कि ये चालान कोर्ट द्वारा जारी किए गए हैं इसलिए वास्‍तविक राजस्‍व का आंकड़ा अभी प्राप्‍त नहीं हुआ है।

गडकरी ने बताया कि एनआईसी (वाहन, सारथी) में उपलब्‍ध जानकारी के मुताबिक 18 राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कुल 38,39,406 ट्रैफ‍िक चालान जारी किए गए हैं। इन चालान का कुल मूल्‍य 5,77,51,79,895 रुपए है।

एनआईसी के पास चंडीगढ़, पोंडीचेरी, असम, छत्‍तीसगढ़, उत्‍तर प्रदेश, ओडिशा, दिल्‍ली, राजस्‍थान, बिहार, दादर और नगर हेवली, पंजाब, गोवा, उत्‍तराखंड, तमिलनाडु, गुजरात, महाराष्‍ट्र, हिमाचल प्रदेश और हरियाणाा की जानकारी है।

तमिलनाडु में सबसे ज्‍यादा 14,13,996 चालान काटे गए हैं, जबकि सबसे कम केवल 58 चालाना गोवा में जारी हुए हैं। सरकार ने हाल ही में कहा है कि उसके पास इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि किस राज्‍य ने मोटर वाहन (संशोधन) कानून, 2019 को लागू नहीं किया है।

हालांकि, कुछ राज्‍यों ने कानून में उन्‍हें दी गई शक्तियों का इस्‍तेमाल करते हुए जुर्माने की राशि को 50 प्रतिशत तक कम कर दिया है। कठोर प्रावधानों और अधिक जुर्माने वाला यह नया कानून देशभर में 1 सितंबर, 2019 से लागू किया गया है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement