Budget 2023
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. डालर के मुकाबले रुपये में लगातार चौथे दिन मजबूती, 74.17 के स्तर पर बंद

डालर के मुकाबले रुपये में लगातार चौथे दिन मजबूती, 74.17 के स्तर पर बंद

छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.05 प्रतिशत की गिरावट के साथ 92.22 रह गया।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: August 05, 2021 17:51 IST
रुपये में लगातार चौथे...- India TV Paisa
Photo:PTI

रुपये में लगातार चौथे दिन मजबूती

नई दिल्ली। डालर के मुकाबले रुपये में लगातार चौथे कारोबारी सत्र में तेजी जारी रही, बृहस्पतिवार को रुपया डॉलर में आई कमजोरी की वजह से मजबूती के साथ बंद होने में कामयाब, रहा हालांकि ये मजबूती मामूली ही रही। बढ़त के साथ रुपया 74 के स्तर के  करीब पहुंच गया है।

कैसा रहा आज का कारोबार

अंतरबैंक विदेशीमुद्रा विनिमय बाजार में रुपया दो पैसे की मामूली बढ़त के साथ 74.17 प्रति डालर पर बंद हुआ है। बाजार सूत्रों ने कहा कि निवेशकों को बाजार के आगे के संकेतों के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के शुक्रवार को होने वाले नीतिगत फैसलों का इंतजार है, जिससे कारोबारी गतिविधियों में नरमी दिखी। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सुबह रुपया 74.15 पर खुला तथा कारोबार के दौरान 74.28 रुपये के निम्नतम स्तर को छू गया। अंत में यह पिछले सत्र के बंद भाव के मुकाबले दो पैसे की तेजी के साथ 74.17 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। बुधवार को रुपया 74.19 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.05 प्रतिशत की गिरावट के साथ 92.22 रह गया। वहीं, बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 123.07 अंक बढ़कर 54,492.84 अंक पर बंद हुआ। वैश्विक मानक माने जाने वाले ब्रेंट क्रूड फ्यूचर का भाव 0.74 प्रतिशत बढ़कर 70.90 डॉलर प्रति बैरल हो गया। 

रुपये के 77 तक जाने का अनुमान 
शेयर बाजार में तेजी के विपरीत हाल के महीनों में रुपया ज्यादातर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले कमजोर रहा है। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अमेरिकी डॉलर- भारतीय रुपये का परिदृश्य 73.50 के स्तर से साथ अल्पकाल के लिए मंदा बना हुआ है। लंबी अवधि में यह गिरकर 75.50-76 के स्तर तक जा सकता है और साल के अंत तक ये 77 के स्तर को भी छू सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक आगे रुपये की चाल तय करने में अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा दरों को लेकर नीति फैसले और बाइडन प्रशासन के चीन के प्रति रुख की अहम भूमिका होगी।

यह भी पढ़ें: 10 अगस्त से खुलेगा Chemplast Sanmar का आईपीओ, जानिये क्या है इश्यू प्राइस

Latest Business News