ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. सुनने की कम क्षमता वाले लोगों के लिए भी प्रभावी है गैलेक्सी बड्स प्रो: सैमसंग

सुनने की कम क्षमता वाले लोगों के लिए भी प्रभावी है गैलेक्सी बड्स प्रो: सैमसंग

एक शोध में बताया गया कि गैलेक्सी बड्स प्रो में शामिल एंबीयेंट साउंड फीचर उन लोगों के लिए मददगार है, जिनके सुनने में हल्की से मध्यम परेशानी है। शोध में शामिल लोगों की औसत उम्र 63 साल थी

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: March 22, 2021 16:30 IST
सुनने की परेशानी में...- India TV Paisa
Photo:SAMSUNG

सुनने की परेशानी में मददगार है बड्स प्रो

नई दिल्ली| सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने सोमवार को कहा कि उनका गैलेक्सी बड्स प्रो वायरलेस ईयरबड्स उन लोगों के लिए भी कारगर है, जिन्हें सुनने में दिक्कत आती है। सैमसंग के मुताबिक, कान, नाक और गले से संबंधित शोध के प्रति समर्पित एक जाने-माने साइंटिफिक जर्नल क्लिनिकल एंड एक्सपेरिमेंटल ओटोरिनोलैरिंगोलॉजी (सीईओ) में पिछले हफ्ते प्रकाशित एक शोध में बताया गया कि गैलेक्सी बड्स प्रो में शामिल एंबीयेंट साउंड फीचर उन लोगों के लिए मददगार है, जिनके सुनने में हल्की से मध्यम परेशानी है। 

इसका एंबीयेंट साउंड फीचर 20 डेसिबल तक आसपास की ध्वनि को एम्प्लीफाई करने की क्षमता रखता है। इनमें चार लेवल दिए गए हैं, जिनका चुनाव कर यूजर्स अपने आसपास की ध्वनि को अपने हिसाब से एडजस्ट कर सकता है।

कंपनी ने कहा कि सोल में सैमसंग मेडिकल सेंटर के साथ मिलकर इस शोध को अंजाम दिया गया। योनहाप समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी पिछले दस सालों से सुनने की क्षमता पर मोबाइल डिवाइसों के प्रभाव का पता लगाने और यूजर्स के लिए साउंड एक्सपीरियंस को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रही है।  सैमसंग ने कहा, "शोध में सुनाई देने में सहायक संबंधी मशीन, एक पर्सनल साउंड एम्प्लीफिकेशन प्रोडक्ट और गैलेक्सी बड्स प्रो के प्रभाव का आकलन किया गया।"

केशन प्रोडक्ट और हियरिंग ऐड को तीन परीक्षणों में से होकर गुजरना पड़ा - इलेक्ट्रोएकॉस्टिक एसेस्मेंट, साउंड एम्प्लीफिकेशन इवैल्यूएशन और एक क्लिनिकल परफॉर्मेस इवैल्यूएशन। कंपनी के मुताबिक, इलेक्ट्रोएकॉस्टिक एसेस्मेंट में गैलेक्सी बड्स प्रो साउंड प्रेशर लेवल, फ्रीक्वेंसी रेंज, इक्वीवैलेंट इनपुट नॉइज और टोटल हार्मोनिक डिस्टॉर्शन इन चारों परफॉर्मेस क्राइटीरिया पर खरा उतरा। शोध में शामिल हुए लोगों की उम्र 63 साल की उम्र के आसपास रही।

Write a comment
elections-2022